इसराईली शहरीयों की अक्सरीयत के लिए अमन मुज़ाकरात बेमाना

इसराईली शहरीयों की अक्सरीयत के लिए अमन मुज़ाकरात बेमाना
इसराईल और फ़लस्तीन के माबैन क़ियाम अमन का सिलसिले अर्से दराज़ से जारी है लेकिन दुनिया देख रही है कि आज भी इसराईल और फ़लस्तीन एक दूसरे से दस्ते गरीबां हैं।

इसराईल और फ़लस्तीन के माबैन क़ियाम अमन का सिलसिले अर्से दराज़ से जारी है लेकिन दुनिया देख रही है कि आज भी इसराईल और फ़लस्तीन एक दूसरे से दस्ते गरीबां हैं।

एक नए सर्वे के मुताबिक़ इसराईली शहरीयों की अक्सरीयत का ये ख़्याल है कि अमरीका की सालिसी के ज़रीए इसराईल- फ़लस्तीन के माबैन अमन बात-चीत के मुसबत नताइज सामने नहीं आएंगे।

मारूफ़ अख़्बार मारियो की जानिब से मुनाक़िदा सर्वे के मुताबिक़ 507 यहूदीयों और अरब नज़ाद इसराईलीयों से जब उन की राय पूछी गई तो 80 फ़ीसद का जवाब यही था कि इस से कोई फ़ायदा नहीं होगा।

Top Stories