इस्तिहकाम के लिए सऊदी अरब से तआवुन और इश्तिराक की ईरानी अपील

इस्तिहकाम के लिए सऊदी अरब से तआवुन और इश्तिराक की ईरानी अपील
वज़ीरे ख़ारजा ईरान मुहम्मद जव्वाद ज़रीफ़ ने आज सऊदी अरब से अपील की कि उन की हुकूमत के साथ इलाक़ाई इस्तिहकाम पैदा करने के लिए तआवुन और इश्तिराक के साथ काम करें। उन का ये तबसरा उन के दौरे ओमान के दौरान मंज़रे आम पर आया है।

वज़ीरे ख़ारजा ईरान मुहम्मद जव्वाद ज़रीफ़ ने आज सऊदी अरब से अपील की कि उन की हुकूमत के साथ इलाक़ाई इस्तिहकाम पैदा करने के लिए तआवुन और इश्तिराक के साथ काम करें। उन का ये तबसरा उन के दौरे ओमान के दौरान मंज़रे आम पर आया है।

वज़ीरे ख़ारजा ईरान मुहम्मद जव्वाद ज़रीफ़ ने कहा कि उन के ख़्याल में सऊदी अरब के साथ ईरान के ताल्लुक़ात में तौसीअ की जा सकती है क्योंकि हम सऊदी अरब को एक इंतिहाई अहम मुल्क समझते हैं। वो ना सिर्फ़ इस इलाक़ा का बल्कि आलमे इस्लाम का एक अहम मुल्क है।

वज़ीरे ख़ारजा ईरान का तबसरा उस वक़्त मंज़रे आम पर आया जबकि उन्हों ने कुवैत के दौरा के आग़ाज़ से क़ब्ल मस्क़त में तवक्कुफ़ किया था। उन्हें अंदेशा है कि ईरान अपने न्यूक्लीयर प्रोग्राम के बहाने न्यूक्लीयर हथियार तैयार कर रहा है।

जिनेवा में 24 नवंबर को ईरान के न्यूक्लीयर प्रोग्राम के बारे में मग़रिबी ममालिक बाशमोल अमरीका के साथ एक मुआहिदा हो चुका है और सऊदी अरब और दीगर ख़लीजी अरब ममालिक ने इस का ख़ैर मक़दम किया है।

Top Stories