Tuesday , December 12 2017

इस्तीफा देना न देना सदर की मरजी

रांची 16 जुलाई : नयी हुकूमत के वजीर राजेंद्र सिंह ने कहा कि असेंबली सदर सीपी सिंह को इस्तीफे के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता। यह उनकी मरजी पर मुनहसर करता है।

रांची 16 जुलाई : नयी हुकूमत के वजीर राजेंद्र सिंह ने कहा कि असेंबली सदर सीपी सिंह को इस्तीफे के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता। यह उनकी मरजी पर मुनहसर करता है।

अपने रिहायिसगाह पर बातचीत के दौरान मिस्टर सिंह ने कहा कि सदर के इस्तीफे देने या न देने से हुकूमत में शामिल असेंबली मेम्बरान की तादाद पर कोई फर्क नहीं पड़ता। अभी लोग सिर्फ असेंबली सदर के इस्तीफे की बहस कर रहे हैं, जबकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि सदर कौन है।

सदर के तायीं आदम एतमाद की तहरीक लाने का अमल होती है। सदर का ओहदा आयनी ओहदा होता है। उन्होंने इत्तेहादी जमातों के असेंबली मेम्बरान को वार्निंग देते हुए कहा कि सदर के ताईं गैर जरुरी बातें नहीं की जानी चाहिए। 18 जुलाई को हुकूमत के एतमाद वोट के हवाले से वो यकीन नज़र आये। उन्होंने कहा कि हुकूमत एतमाद वोट हासिल कर लेगी। वह हुकूमत के इत्तेहाद में शामिल असेंबली अरकान से दस्तखत करा कर सदन को सौंप देंगे। मिस्टर सिंह ने कहा कि आज़ाद असेंबली रुक्न बेफिक्र रहें। उनको पूरी इज्ज़त दी जायेगी। सही तरीके से रहेंगे तो उनको सिर पर बिठा कर रखा जायेगा।

TOPPOPULARRECENT