इस्तीफ़ों के ज़रीया दस्तूरी बोहरान पैदा करना ज़रूरी

इस्तीफ़ों के ज़रीया दस्तूरी बोहरान पैदा करना ज़रूरी

हैदराबाद 15 नवंबर (सियासत न्यूज़ ) तेलंगाना राष़्ट्रा समीती के साबिक़ रुकन पार्लीमैंट विनोद कुमार और पोलीट ब्यूरो रुकन डाक्टर श्रावण ने तेलगुदेशम तेलंगाना क़ाइदीन से मुतालिबा किया कि वो पार्टी से मुस्ताफ़ी होकर तेलंगाना तहरीक मे

हैदराबाद 15 नवंबर (सियासत न्यूज़ ) तेलंगाना राष़्ट्रा समीती के साबिक़ रुकन पार्लीमैंट विनोद कुमार और पोलीट ब्यूरो रुकन डाक्टर श्रावण ने तेलगुदेशम तेलंगाना क़ाइदीन से मुतालिबा किया कि वो पार्टी से मुस्ताफ़ी होकर तेलंगाना तहरीक में शामिल होजाएं । उन्हों ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत की जानिब से मुख़ालिफ़ तेलंगाना मौक़िफ़ के ऐलान और चंद्रा बाबू नायडू के मुवाफ़िक़ मुत्तहदा आंधरा मौक़िफ़ के बाइस तेलंगाना क़ाइदीन को चाहीए कि वो अपने आप को तहरीक में शामिल करलें । उन्हों ने कहा कि वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने तेलंगाना की मुख़ालिफ़त में ब्यान देते हुए दरअसल यू पी ए का मौक़िफ़ वाज़ेह करदिया है ।

वज़ीर-ए-आज़म के ज़रीया कांग्रेस पार्टी ने तेलंगाना अवाम तक अपना मौक़िफ़ पहुंचाया यही वजह है कि कांग्रेस पार्टी ने तेलंगाना मसला पर अलहदा मौक़िफ़ इख़तियार ना करने का फ़ैसला किया है । इस का कहना है कि यू पी ए का मौक़िफ़ ही कांग्रेस का मौक़िफ़ रहेगा। डाक्टर श्रावण ने कहा कि तेलंगाना तहरीक में शिद्दत पैदा करते हुए मर्कज़ पर दबाव डालने केलिए तेलंगाना से ताल्लुक़ रखने वाले तमाम अरकान असमबली को मुस्ताफ़ी होजाना चाहीए । उन्हों ने कहा कि मुत्तहदा जद्द-ओ-जहद के ज़रीया ही तेलंगाना रियासत हासिल की जा सकती है ।

डाक्टर श्रावण ने कहा कि तमाम अरकान असमबली को अपने इस्तीफ़ों के ज़रीया रियासत में दस्तूरी बोहरान पैदा करना चाहीए । उन्हों ने कहा कि तेलगुदेशम अरकान असमबली अगर अपने इस्तीफ़ों के बारे में संजीदा हूँ तो उन्हें चाहीए कि असमबली इजलास से क़बल ही अपने अस्तीफ़े मंज़ूर करने केलिए स्पीकर पर दबाव डालें। उन्हों ने कहा कि स्पीकर ने मुस्ताफ़ी अरकान से राय हासिल करना शुरू करदिया है ऐसे वक़्त जबकि मर्कज़ तेलंगाना के हक़ में ऐलान से क़ासिर है लिहाज़ा तेलगुदेशम के तेलंगाना अरकान असमबली को चाहीए कि अपने इस्तीफ़ों की मंज़ूरी केलिए स्पीकर पर दबाव डालें ।

उन्हों ने कहा कि कांग्रेस और तेलगुदेशम तेलंगाना रियासत के क़ियाम में अहम रुकावट हैं और दोनों जमातें कोई वाज़ेह मौक़िफ़ इख़तियार करने से गुरेज़ कररही है । डाक्टर श्रावण ने कहा कि अब जबकि जद्द-ओ-जहद फ़ैसलाकुन मरहला में दाख़िल होचुकी है लिहाज़ा तेलंगाना के तमाम अवामी नुमाइंदों को ये तए करना होगा कि वो अवाम के साथ रहेंगे या फिर सीमा आंधरा क़ाइदीन के आल-ए- कार बन कर अपनी कुर्सीयों का तहफ़्फ़ुज़ करेंगे ।

उन्हों ने कहा कि तेलगुदेशम अरकान असमबली को चंद्रा बाबू नायडू का साथ छोड़ना होगा क्योंकि अब अदालत ने भी उन के असासा जात के ख़िलाफ़ तहक़ीक़ात की हिदायत दी है । अलहदा तेलंगाना केलिए जद्द-ओ-जहद में शिद्दत पैदा करने केलिए तेलंगाना के तमाम अवामी नुमाइंदों की मुत्तहदा मसाई (कोशिस) नागुज़ीर है ।

Top Stories