Saturday , December 16 2017

इस्मत रेज़ी की कोशिश कर मारपीट, छावनी में तब्दील हुआ गांव

रांची 2 जुलाई : कांके थाना इलाके के चंदवे गांव में पीर की शाम एक तालेबा के साथ पांच नौजवान ने इस्मत रेज़ी की कोशिश किया। मुखालिफत करने पर बदमाशों ने तालेबा को मारपीट कर जख्मी कर दिया। तालेबा को कांके पीएचसी में दाखिल कराया गया है।

रांची 2 जुलाई : कांके थाना इलाके के चंदवे गांव में पीर की शाम एक तालेबा के साथ पांच नौजवान ने इस्मत रेज़ी की कोशिश किया। मुखालिफत करने पर बदमाशों ने तालेबा को मारपीट कर जख्मी कर दिया। तालेबा को कांके पीएचसी में दाखिल कराया गया है।

वाकिया के बाद दोनों तरफ के लोग आमने-सामने हो गए और एक दूसरे को मरने-मारने पर अमादा हो गए। पुलिस के सामने ही मुजरिमों और उनके हिमायतियों ने शिकायत करने पहुंचे लोगों को मारपीट कर जख्मी कर दिया। इस तशादुद झड़प में सात लोग जख्मी हो गए। शदीद जख्मियों को अपोलो और सदर अस्पताल में दाखिल कराया गया है।

पहले छेड़ा, मुखालफत करने पर तेज असलाह से जख्मी किया

तालेबा ने बताया कि वह घर से पानी लाने के लिए बाहर निकली थी। रास्ते में ही पांच लड़के मतिन, तबरेज, सद्दाम, जाउल और कमरुल ने उसे घेर लिया। पांचों लड़के उसके साथ छेड़छाड़ करने लगे। मुलजिम उसे जबरन खेत की तरफ ले जाने लगे। मुखालिफ करने पर लड़कों ने तेज असलाह से वार कर उसे जख्मी कर दिया। तालेबा ने बताई कि लड़कों के तेवर देख कर उसने शोर मचाया, तो कुछ लोग वहां जमा हो गए। लोगों को जमा होता देख सभी मुलजिम वहां से फरार हो गए।

तालेबा का कहना है कि मुलजिम सख्स उसके साथ कई दिनों से छेड़छाड़ कर रहे थे। उसने डर से न तो अपने घर में और न ही अपने किसी दोस्त को इसके बारे में कभी कुछ बताया था।

तालेबा के वालिद ने बताया कि बेटी के साथ ऐसी वाकिया होने के बाद गांव के कुछ लोग मुजरिमों के घर गए। वहां पहुंचते ही सभी मुजरिम और वहां के गांव वालों ने उलटे उन पर ही हमला बोल दिया। मुजरिमों और उनके हिमायतियों ने पत्थर और डंडे से वार कर उन्हें जख्मी कर दिया। हमले में शेर अली और खातून नूर जहां शदीद तौर से जख्मी हो गए। पुलिस की मौजूदगी में उनके साथ मारपीट की गई और पुलिस तमाशा देखती रही। किसी तरह सभी लोग वहां से भाग कर घर पहुंचे और पुलिस के सीनियर अफसरों को इसकी इत्तेला दी।

छावनी में तब्दील हुआ गांव

वाकिया के बाद पूरे गांव में कशीदगी फैली है। दोनों तरफ के लोग एक दूसरे को मरने-मारने पर उतारू हो गए थे। गांव का माहौल बिगड़ता देख सैकड़ों पुलिस अहलकारों को गांव में तैनात कर दिया गया। कई खातून पुलिस अहलकार को भी तैनात किया गया है। गांव के हर घर के बाहर तीन से चार पुलिस अहलकार बैठे हुए हैं। डीएसपी बीबी तिर्की गांव में खुद कैंप कर मामले की जांच कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT