Monday , November 20 2017
Home / Featured News / इस्लामाबाद हाई सिक्योरिटी ज़ोन की घेराबंदी, स्थिति तनावपूर्ण

इस्लामाबाद हाई सिक्योरिटी ज़ोन की घेराबंदी, स्थिति तनावपूर्ण

मुमताज़ कादरी को ‘शहीद’ घोषित करने की मांग, पार्लियामेंट  हाउज़ और अन्य इमारतों के सामने समर्थकों का धरना

इस्लामाबाद: मुमताज़ कादरी के हजारों समर्थकों ने उन्हें ” शहीद ” करार दिए जाने की मांग करते हुए पाकिस्तानी राजधानी इस्लामाबाद के हाई सिक्योरिटी ज़ोन को आज घेर लिया। कल उनके चेहलुम पर रावलपिंडी में  नमाज़ की अदायगी के बाद लगभग 25 हजार प्रदर्शनकारियों ने बाधाओं को तोड़ते हुए इस्लामाबाद रैड ज़ोन की ओर बढ़ने की कोशिश की थी।

इनमें लगभग 3 हजार समर्थकों ने पार्लियामेंट  हाउज़ और अन्य प्रमुख सरकारी प्रतिष्ठानों के समक्ष विरोध धरना आज दूसरे दिन भी जारी रखा। मुमताज़ कादरी को आज़ाद ख़्याल पंजाब गवर्नर सलमान तासीर की हत्या पर 29 फरवरी को फांसी दी गई। सलमान तासीर ने ईशनिंदा कानून में सुधार का समर्थन किया था और उन्होंने तिरस्कारी शब्द कहे जिस पर नाराज होकर मुमताज़ कादरी ने जो उनके पर्सनल सिक्योरिटी गार्ड थे 2011 में उन्हें मार डाला।

कल प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए पुलिस और रेंजर्स ने आंसू गैस के शेल्स छोड़े थे। जियो न्यूज के अनुसार संघर्ष में लगभग 42 सुरक्षा अधिकारी और 16 नागरिक घायल हो गए। मीडिया को भी प्रदर्शनकारियों के क्रोध का सामना करना पड़ा और उनके प्रतिनिधियों पर हमला करते हुए कई लोगों को घायल और उनके उपकरणों को नुकसान पहुंचाया गया।

प्रदर्शनकारियों का दावा है कि मीडिया इस घटना को सही संदर्भ में नहीं पेश कर रहा है। सनी आंदोलन और आंदोलन लब्बैक या रसूल‌  लगभग 10 हजार विरोध पुलिस के साथ खूनी झड़प के बाद तथाकथित उच्च सुरक्षा रैड ज़ोन में प्रवेश हो गए। लॉ एंड ऑर्डर की बदतर स्थिति के बाद सरकार ने सेना तैनात कर दी।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वह रैड ज़ोन में तब तक रहेंगे जब तक मुमताज़ कादरी को ‘शहीद’ और देश में शरई कानून का पालन नहीं किया जाता। उन्होंने गिरफ्तार नेताओं की रिहाई और मुमताज़ कादरी को जिस ादयालह जेल में रखा गया उसे राष्ट्रीय विरासत में बदलने की मांग .मोजूदा स्थिति से निपटने के लिए सरकार की कोशिशें जारी हैं।

एक अधिकारी ने बताया कि अब तक सरकार ने प्रदर्शनकारियों के तख़लिया लिए बल प्रयोग नहीं किया है क्योंकि शांतिपूर्ण तौर बिखरने के लिए उनके नेताओं से कोशिशें जारी हैं, इस दौरान राजधानी इस्लामाबाद और करीब रावलपिंडी के रहने वालों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा क्योंकि कई क्षेत्रों में मोबाइल फोन सेवाओं को निलंबित और इंटरनेट की गति धीमी हो गई थी।

इसके अलावा इस्लामाबाद जाने वाली सभी सड़कों  पर सुरक्षा जाँच के कारण यातायात की आवाजाही भी कम थी। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करने वालों ने इस्लामाबाद प्रशासन से किसी भी प्रकार की बातचीत करने से इनकार कर दिया है और कहा है कि वह सरकारी प्रतिनिधियों से ही बातचीत करेंगे। प्रदर्शनकारियों की मांग हैकि धार्मिक कार्यकर्ताओं को रिहा किया जाए। रविवार की रात इस्लामाबाद प्रशासन की ओर से सेना को तलब कर लिया गया था। पुलिस की भारी भीड़ और 600 के करीब सैन्य अधिकारी लाल क्षेत्र में स्थित सरकारी  इमारतों की सुरक्षा के लिए मौजूद हैं।

TOPPOPULARRECENT