Sunday , December 17 2017

इस्लामिक झंडे को पाकिस्तान का झंडा कह कर 60 लोगों के खिलाफ केस दर्ज

बदायूं । उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक धर्मिक जुलुस के दौरान इस्लामिक झंडे को लेकर नया विवाद पैदा हो गया है । यह झंडा एक 14 वर्षीय बच्चे के हाथ में था जो कार्यक्रम में इसे हाथ में लेकर चल रहा था । कुछ स्थानीय हिंदूवादी संगठनो ने इसका वीडियो बनाकर पुलिस को दिया और दावा किया कि यह पाकिस्तान का झंडा था । फिलहाल इस मामले में 60 लोगों के खिलाफ पाकिस्तान का झंडा फहराने के आरोप में आईपीसी की धारा 295-A के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है ।

मामला 12 दिसम्बर का है । इद-उल-मिलादुल के जुलूस में इस इस्लामिक झंडे को लहराया गया थाा। इस मामले में जब पुलिस से बात की गयी तो पुलिस ने स्वीकारा कि पाकिस्तान के झंडे और उस लड़के द्वारा फहराए जा रहे झंडे में थोड़ा फर्क है। जैसे पाकिस्तान के झंडे में चांद सितारों से बड़ा होता है। वहीं लड़के के झंडा उससे उल्टा था।

दरअसल यह ईद-उन-मिलाद और मौर्हरम के जुलूस में अक्सर में इस्लामिक झंडे के साथ जुलूस निकाला जाता है। ये इस्लामिक झंडा होता है और इसका पाकिस्तान से कोई लेना देना नही था ।

पुलिस के अनुसार लड़के की पहचान हो गई है। वह वहीं के एक दर्जी का लड़का है। लड़के के पिता से भी पूछताछ हुई थी। उन्होंने बताया कि लड़का खुद टेलर का काम सीख रहा है और उसने ही वह झंडा बनाया भी था। उन्होंने बताया कि लड़के ने जानबूझकर पाकिस्तान जैसा झंडा नहीं बनाया था।

पुलिस ने लड़के और उसके पिता को फिलहाल छोड़ दिया है लेकिन मामले की जांच फिलहाल चल रही है। पुलिस वीडियो की जांच करके बाकी लोगों को पहचानने की कोशिश कर रही है जिन्होंने झंडा लिया था। एसएचओ ने आगे बताया कि मीटिंग के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों ने माफी मांग ली है। उन्होंने यह भी कहा कि गलती से वह झंडा लेकर जाया गया और उसके पीछे कोई गलत भावना नहीं थी।

TOPPOPULARRECENT