Saturday , December 16 2017

इस्लाम क़ुबूल करने वाले ब्रिटेन के मशहूर हस्तियों पर एक नज़र!

लंदन: सऊदी अरब में उल्लिखित ब्रिटिश राजदूत साइमन कोलिस और उनकी पत्नी के इस्लाम क़ुबूल करने के बाद और हज अदा करने की खबरों और तस्वीरों ने दुनिया भरमें एक तहलका मचा दिया है। पूरी दुनिया में ब्रिटिश राजदूत के मुशर्रफ ब इस्लाम होने के चर्चे हैं।
british-muslim2
साइमन कोलेज़ और उनकी पत्नी हुदा।

अल अरबिया के अनुसार बुधवार को ब्रिटिश नो मुस्लिम राजदूत साइमन कोलेज़ और उनकी पत्नी हुदा मजरेकश को एहराम बांधे देखा गया तो उनकी हज की तस्वीरों ने असमान्य सराहना प्राप्त की। पता चला है कि दोनों पति-पत्नी ने पांच साल पहले इस्लाम स्वीकार किया था लेकिन उनकी स्वीकृति इस्लाम की समाचार सामने नहीं आईं।
सऊदी अरब में उल्लिखित ब्रिटिश राजदूत साइमन कोलेज़ और उनकी पत्नी के इस्लाम में प्रवेश करने के बाद अल अरबिया डॉट नेट ने ब्रिटेन से संबंध रखने वाली उन प्रसिद्ध हस्तियों को खोजा जो मुशर्रफ ब इस्लाम हो चुकी हैं।
इस्लाम स्वीकार करने वाले ब्रिटिश मशाहीर में कुछ अभी भी जीवित हैं। उनमें एक नाम Cat Stevens का भी है जो इस्लाम स्वीकार करने से पहले पाक संगीतकार थे। इस्लाम स्वीकार करने के बाद उन्होंने अपना इस्लामी नाम यूसुफ इस्लाम रखा। इस्लाम में प्रवेश करने के बाद उन्होंने संगीत छोड़ दी और इस्लामी गीतों, तरानों और हम्द व नात को अपना दिनचर्या बना लिया।
ब्रिटिश राजदूत साइमन कोलीज़ और उनकी पत्नी के इस्लाम में प्रवेश करने और हज की सआदत हासिल करने की खबर ने तहलका मचा दिया और सोशल मीडिया पर उनकी एहराम वाली छवि को बहुत पसंद किया गया है। ‘ट्विटर’ पर उन्हें बधाई देने वालों का तांता बंध गया। सऊदी राजकुमारी बिस्मा बिन्त सऊद ने भी ब्रिटिश राजदूत और उनकी पत्नी को इस्लाम स्वीकार करने और हज की सआदत हासिल करने पर ट्विटर पर मुबारक बाद दिया है। साइमन कोलेज़ का कहना है कि मैं 30 साल के विमर्श और लंबे समय से इस्लामी समाज में जीने के बाद इस्लाम स्वीकार करने का फैसला किया।
british-muslim3
साइमन कोलेज़ पिछले साल अप्रैल माह के दौरान शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज से मुलाकात कर रहे हैं।

साठ वर्षीय साइमन कोलेज़ का कूटनीति की यात्रा 1978 में विदेश मंत्रालय में नौकरी से हुआ। वह विदेश में सबसे पहले बहरीन में सेकंड सचिव के पद पर नियुक्त हुए। बाद में व्यास, इराक और सीरिया में राजदूत के रूप में कार्य किया। भारत में प्रथम सचिव और दुबई, बसरा, ट्यूनीशिया और ओमान में महावाणिज्य के पद पर कार्य किया। फरवरी 2015 को उन्हें सऊदी अरब में राजदूत नियुक्त किया गया। वह वर्ष 2011 में अपनी शादी के कुछ महीने पहले इस्लाम स्वीकार कर चुके थे।
साइमन कोलेज़ से पहले 68 वर्षीय पॉप संगीतकार और अभिनेता केट स्टीवंस ने इस्लामी शिक्षाओं से प्रभावित होकर धर्म हनीफ अपनाया और अपना अंग्रेजी नाम छोड़ कर इस्लामी नाम यूसुफ इस्लाम रखा।
यूसुफ इस्लाम से पहले प्रसिद्ध ब्रिटिश लेखक और शोधकर्ता मार्टिन लनगज़ ने 1940 में मिस्र की यात्रा के बाद इस्लाम कबूल किया। मार्टिन किंग्स ने अपना नाम बदलकर इस्लाम नाम अबू बकर सिराजुद्दीन रखा। मुस्लिम होने वाले अबू बकर सिराज का पुश्तैनी संबंध इंग्लैंड से था। उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में अंग्रेजी भाषा और साहित्य में अध्ययन किया और वर्ष 1940 में मिस्र में अपने एक दोस्त से मिलने काहिरा पहुंच गए। स्वाभाविक दोस्त काहिरा की फव्वाद अल अव्वल विश्वविद्यालय में कार्यरत थे। काहिरा आगमन के बाद उन्होंने इस्लाम का गहराई से अध्ययन शुरू किया। उनके दोस्त का एक दुर्घटना में निधन हो गया हालांकि अबू बकर सिराज इस्लामी शिक्षाओं से प्रभावित हो चुके थे। उन्होंने वहीं इस्लाम स्वीकार किया और सीरत नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम पर एक किताब संकलन की जिसे काफी प्रसिद्धि मिली। उन्होंने कई विषयों पर 18 पुस्तकें लिखीं और 96 साल की उम्र में उनका निधन हो गया.
ब्रिटेन की मशहूर हस्तियों जिन्होंने राहे हिदायत स्वीकार की उनमें प्रसिद्ध राजनयिक और बौद्धिक Charles le Gai Eaton का चर्चा कम महत्वपूर्ण नहीं। चार्ल्स स्विस मूल के ब्रिटिश थे जो वर्ष 1921 को सुइटरज़लैंड के शहर लुसाने में पैदा हुए। उन्नीसवीं सदी के मध्य में उन्होंने काहिरा विश्वविद्यालय में एक शिक्षक के तौर पर सेवा की। वहीं वे इस्लामी शिक्षाओं और अरब संस्कृति से परिचित हुए और आखिरकार इस्लाम स्वीकार किया और सन् 2010 में 89 साल की उम्र में मर गया।
british-muslim-4
यूसुफ इस्लाम [ऊपर दाएँ और चारल्स ईटोन, जबकि नीचे [सही] विलियम हेनरी कोलियम, अल जोहन मोहम्मद बट और मार्टिन लैंगज़।

नो मुस्लिम ब्रिटिश मशाहीर में William Henry Quilliam नाम भी सर्वोपरि है। वह अपने समय में इंग्लेंड की ओर से ईरान और तुर्क साम्राज्य में राजदूत नियुक्त हुए। अफ्रीकी देश मोरक्को के दौरे के समय उनकी उम्र 31 साल थी। मोरक्को का दौरा उनका इस्लाम में प्रवेश करने का कारण बना।
विलियम हेनरी कोलियम लंदन में पहली मस्जिद निर्माण कराया और 76 साल की उम्र में 1932 ई। को निधन किया।
सर्वोपरि ब्रिटिश नो मुस्लिम मशाहीर में ” जोहन मोहम्मद बट ‘का नाम रोशन रहेगा। वह पेशे के आधार पर एक शिक्षा के विशेषज्ञ, बौद्धिक और शोधकर्ता थे। वह सन् 1969 को पाकिस्तान की स्वात घाटी की सैर को आए और हमेशा के लिए इस्लाम के होकर रह गए। वे स्वात में मुसलमानों और स्थानीय आदिवासी संस्कृति से बेहद प्रभावित रहे। स्वात में उनके आगमन का उद्देश्य केवल पर्यटन था मगर जब वह इस्लामी शिक्षाओं से प्रभावित हुए तो उन्होंने इस्लाम सीखने के लिए दारुल उलूम में प्रवेश ले लिया। डिग्री प्राप्त करने के बाद वह इस्लाम के उपदेशक के रूप में प्रसिद्ध हुए। वह अभी भी ब्रिटेन और पाकिस्तान में अक्सर आते-जाते रहते हैं।
british-muslim-5
जान निलीपी के नाम से पहचाने जाने वाले इस्लाम स्वीकार करने के बाद नाम अल शेख अब्दुल्ला रखा गया था।

मशाहीर में ब्रिटिश खुफिया एजेंसियों के एक पूर्व एजेंट और लेखक जिन्होंने इस्लामी नाम अल शेख अब्दुल्ला अपनाया 1960 में निधन हो गया था। उन्होंने तुर्क साम्राज्य के पूर्वी अरब क्षेत्रों विशेषकर सऊदी अरब, इराक, जॉर्डन और फिलिस्तीन से प्रभाव खत्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस दौरान ही उन्होंने इस्लाम कबूल किया और मक्का में आले सऊद के गुण पर प्रवचन भी दिया। सऊदी अरब की तेल कंपनी अरामको की नींव रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। नजद की एक महिला से शादी की जिसकी एक बच्ची भी थी जो उनकी इकलौती संतान थी।

TOPPOPULARRECENT