Tuesday , September 18 2018

इस बार की अरब लीग सम्मेलन में फलस्तीनी मुद्दे को अहमियत दी जायेगी- सऊदी अरब

हौथी लड़ाकों का सऊदी अरब पर इस साल लगातार मिसाइल हमला जारी है, इन मिसाइल हमलों के लिए सऊदी अरब हमेशा से ईरान को जिम्मेदार मानता आया है, हालाँकि ईरान ने अपने उपर लगे आरोपों के लिये इनकार किया है।

सऊदी अरब के विदेश मंत्री अब्देल अल जुबेइर ने गुरुवार को रियाद में होने वाले 29 वें अरब समिति से पहले अरब लीग के विदेश मंत्रियों की हुई बैठक में कहा की “इस सम्मेलन में फिलिस्तीनी मुद्दे को प्राथमिकता दी जाएगी।

अल-जुबेइर ने कहा की उनका देश वाशिंगटन के इस फैसले की निंदा और इस फैसले पर अफ़सोस करता है की जेरुसलम इजराइल की राजधानी है।

सऊदी अरब के विदेश मंत्री ने कहा की आतंकवाद से निपटा जाना चाहिए और उसे वित्तपोषण करने वाले स्रोतों से भी हमें निपटण होगा। उन्होंने कहा की “इस क्षेत्र में ईरान की लगातार हस्तक्षेप में कोई शांति नहीं है।

उन्होंने कहा की ईरान और आतंकवाद एक ही सिक्के के दो पहलु हैं। उन्होंने साथ ही साथ यह भी कहा की यमन संकट के जिम्मेदार हौथी लड़ाक हैं जबकि सऊदी अरब यमन में धन जुटाकर पुनर्निर्माण में यमन का समर्थन कर रहा है।

अरब लीग के महासचिव अहमद अब्लिक घेट ने कहा कि “इस क्षेत्र में संकट विदेशी हस्तक्षेप की मदद से हो रहा है। घेइत ने बहरीन और अन्य अरब क्षेत्रों में ईरान के हस्तक्षेप की निंदा की और कहा की दाईश पर जीत हासिल कर सभी क्षेत्रों को प्रभावित क्षेत्रों के पुनर्निर्माण के लिए सम्मिलित होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सीरिया के इलाके की एकता पर अरब सहमती एक है, जिसमें कहा गया है कि इस संकट का समाधान करने का राजनीतिक समाधान सबसे अच्छा तरीका है और संकट की राजनीतिक समाधान हासिल करने के लिए जिनेवा की प्रक्रिया को बनाए रखने की आवश्यकता पर बल दिया जायेगा। घेइत ने कहा की हौथी लड़ाकों ने यमन में राजनीतिक समाधानों को अस्वीकार कर दिया है।

TOPPOPULARRECENT