Wednesday , December 13 2017

इस रोहिंग्या लड़की ने बताया कि कैसे उसके पिता को म्यांमार के सैनिकों ने मारी थी गोली

बांग्लादेश: एक 11 वर्षीय लड़की ने बताया कि कैसे उसके पिता को म्यांमार सेना के सैनिकों ने गोली मारकर हत्या की थी, कैसे उसने अपने पिता के शरीर को खून से लतपत सड़क पर गिरा देखा था।

जन्ता आरा बेगम और उसका परिवार अपने गांव को छोड़ने की योजना बना रहे थे, कि सैनिकों ने उन्हें घेर लिया. सैनिक घर-घर जाकर पुरुषों को खोज रहे थे। सभी पुरुष उत्तरपारा में पास के एक जंगल की पहाड़ी की ओर भाग गए।

जन्ता ने बताया कि उसके पिता सईद एलन, जो एक बढ़ई थे, परिवार के लिए कुछ चावल खरीदने के लिए बाहर चले गए। जैसे ही वह घर से निकले, उन्होंने देखा कि बाजार से गोलियों की आवाज़े आ रही हैं।”

उसने कहा कि, “मेरी मां और मैं बहुत डर गए थे। पड़ोसियों ने हमें बताया कि म्यांमार सेना ने मेरे पिता की हत्या कर दी है। मैं मौके पर पहुचीं और देखा की मेरे पिता सड़क पर पड़े हैं। उन्हें दो बार गोली मारी गई थी। यह मेरे और मेरे परिवार के लिए एक सदमे से कम नहीं था।”

जन्ता और उसकी मां, अनोवा बेगम, तुरंत जन्ता के तीन भाइयों और चार बहनों के साथ बांग्लादेश सीमा के लिए रवाना हो गये। उन्होंने कहा, “हम अपने पिता को दफना भी नहीं पाए।”

“पिछले आठ दिनों से, मैंने एक स्कूल के मैदान में माँ, भाइयों और बहनों के साथ शरण ले रखी है। हमारे पास रात में सोने के लिए एक तम्बू भी नहीं है।”

जन्ता खाना खरीदने के लिए सब से मदद मांग रही है क्योंकि उसने 24 घंटे से कुछ नहीं खाया है। उखिया और टकनफ इलाके में रोहिंया शिविरों में शरणार्थियों की स्थिति बेहद ही दुखद है।

बांग्लादेश में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार एजेंसी ने कहा है कि उनको 7.7 मिलियन डॉलर की जरूरत है ताकि वह तम्बुओं की सप्लाई कर सकें और रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए रजिस्ट्रेशन और अन्य प्रक्रियाएं पूरी कर सकें।

संयुक्त राष्ट्र की बच्चों की एजेंसी, यूनिसेफ ने 6 महीने से 15 वर्ष की आयु वर्ग के शरणार्थी बच्चों के लिए एक सप्ताह का टीकाकरण कार्यक्रम शुरू कर दिया है, जिसमें 150,000 बच्चों को टारगेट किया गया है। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (WHO) 100,000 चिकित्सा किट, पानी को साफ़ करने वालीं 2 मिलियन गोलियां और 20,000 हैजा की गोलियां प्रदान कर रहा है।

TOPPOPULARRECENT