Monday , September 24 2018

इज़राइल द्वारा 16 फ़लस्तीनियों की हत्या के बाद देश भर में राष्ट्रीय शोक, सुरक्षा परिषद ने दिये जांच के आदेश

A Palestinian demonstrator holds an axe during clashes with Israeli troops, during a tent city protest along the Israel border with Gaza, demanding the right to return to their homeland, the southern Gaza Strip March 30, 2018. REUTERS/Ibraheem Abu Mustafa - RC1B57804B10

गाजा : इजरायल की सेना द्वारा 16 फिलीस्तीनियों की हत्या के बाद फिलीस्तीनी अथॉरिटी ने राष्ट्रीय शोक का एक दिन शनिवार को घोषित कर दिया है क्योंकि हजारों लोग इजरायल के साथ गज़्ज़ा की सीमा के निकट भूमि दिवस की 42 वीं वर्षगांठ पर एक बड़ा प्रदर्शनकर रहे थे। शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा गया है, “शहीदों की आत्माओं के लिए राष्ट्रीय शोक का एक दिन घोषित करने का निर्णय लिया गया है। राष्ट्रपति महमूद अब्बास के अनुसार, पूरे देश में स्कूलों, विश्वविद्यालयों और साथ ही सभी सरकारी संस्थान शनिवार को बंद होंगे।”

फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इजरायली सेना ने प्रदर्शनकारियों पर गोलाबारी के बाद 1,400 से अधिक अन्य घायल हो गए थे और उन्हें बाड़ से वापस धकेलने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया था। शुक्रवार के प्रदर्शन का उद्घाटन भूमि दिवस, जो 30 मार्च 1976 को हुआ था, जब इजरायल के छह निहत्थे फिलिस्तीनी नागरिक इजरायल की सेना द्वारा इजरायल सरकार के फैसले के विरोध में विरोध प्रदर्शन के दौरान मारे गए थे।

शुक्रवार की मार्च के आयोजकों ने ग्रेट रिटर्न मार्च को कहा, प्रदर्शन के मुख्य संदेश ने फ़िलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए वापसी के अधिकार की मांग की थी। गाजा की 20 लाख आबादी में करीब 70 प्रतिशत आबादी फिलिस्तीनियों की सन्तान है, जो 1948 के युद्ध के दौरान इजरायल के कब्जे वाले इलाकों में अपने घरों से निकल पड़े थे, जो अरबों को नाकाबा के रूप में जाना जाता था। मंत्रालय के मुताबिक, आग, रबड़ से बने स्टील की बुलेट और आंसू गैस से साँस लेने में ज्यादातर लोग घायल हो गए थे।

Israeli soldiers take position next to the border fence on the Israeli side of the Israel-Gaza border, as Palestinians demonstrate on the Gaza side of the border, March 30, 2018. REUTERS/Amir Cohen – RC1E3EEC5EF0

‘अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन’

आदाला, इसराइल में फिलीस्तीनी अधिकारों के लिए एक कानूनी केंद्र है जिसने इजरायल की सैन्य शक्ति का इस्तेमाल करने की निंदा की, इसे अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन बताया है। समूह ने एक बयान में कहा, “निहत्थे नागरिकों पर बंदूक से हमला अंतर्राष्ट्रीय कानूनी का क्रूर उल्लंघन है।”
यह भी कहा गया है कि यह जांच करने के लिए “यह मांग करता है कि हत्याओं के लिए जिम्मेदार पाए गए लोगों को न्याय के लिए सामने लाया जाए”।

इज़राइली मीडिया के मुताबिक, इजरायल की सेना ने सीमा की दूसरी तरफ से 100 से ज्यादा साईपर्स तैनात किए थे। जॉर्डन सरकार ने फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों की मौत के लिए इज़राइल पर ज़िम्मेदारी देने के एक बयान जारी किया। जॉर्डन सरकार के प्रवक्ता मोहम्मद अल-ममानी ने कहा “इजरायल शांतिपूर्ण ढंग से विरोध करने और अत्यधिक बल के इस्तेमाल के लिए इजरायल के उल्लंघन के परिणामस्वरूप गाजा में जो कुछ हुआ, उसके लिए इजरायल जिम्मेदार है”। तुर्की और कतरी सरकारों ने इजरायल के बल का उपयोग करने की निंदा करते हुए इसी तरह के बयान जारी किए हैं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ग़जा-इसराइल की सीमा पर प्रदर्शन के दौरान इसराइली सेना की गोलियों से मारे गए 16 फ़लस्तीनियों की मौत की जांच के आदेश दिए हैं. प्रदर्शन में सैकड़ों लोग घायल भी हुए हैं.न्यू यॉर्क में एक आपातकालीन बैठक के दौरान संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी ने इसराइल से मानवीयता बनाए रखने का आग्रह किया और साथ ही ये भी कहा कि बल प्रयोग अंतिम विकल्प होना चाहिए.

फ़लस्तीनियों का ये प्रदर्शन दक्षिण गज़ा के ख़ान यूनिस के शहर समेत फ़लस्तीन-इसराइल सीमा से सटे कुल पांच इलाक़ों में आयोजित किया जा रहा है. इसराइली सेना का कहना है कि सीमा से लगी कई जगहों पर “दंगों” की स्थिति थी जिससे निपटने के लिए “दंगा भड़काने वालों को निशाना बना कर” गोलियां चलाई गई थी. बाद में इसराइल ने जानकारी दी कि उसने हमास समूह के इलाकों को निशाना बनाया है. फ़लस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से ‘फ़लस्तीनी लोगों को संरक्षण देने की मांग की है.’ उन्होंने कहा, ” मैं आज मारे गए लोगों की पूरी जिम्मेदारी इसराइल प्रशासन पर डालता हूं.”

TOPPOPULARRECENT