Thursday , February 22 2018

इज़्ज़त मिलने तक यू पी ए से इत्तिहाद ( मेल) बरक़रार

कांग्रेस को सख़्त पयाम देते हुए तृणमूल कांग्रेस सरबराह ममता बनर्जी ने आज कहा कि उन की पार्टी उस वक़्त तक यू पी ए में शामिल रहेगी जब तक उस की इज़्ज़त और मुक़ाम रहे लेकिन मग़रिबी बंगाल में पार्टी तन्हा मुक़ाबला करेगी। उन्होंने पार्टी की स

कांग्रेस को सख़्त पयाम देते हुए तृणमूल कांग्रेस सरबराह ममता बनर्जी ने आज कहा कि उन की पार्टी उस वक़्त तक यू पी ए में शामिल रहेगी जब तक उस की इज़्ज़त और मुक़ाम रहे लेकिन मग़रिबी बंगाल में पार्टी तन्हा मुक़ाबला करेगी। उन्होंने पार्टी की सालाना यौम शहीदां रैली (public rally से ख़िताब ( संबोधित) करते हुए कहा कि हम किसी के रहम-ओ-करम पर रहना नहीं चाहते।

दिल्ली में हम इत्तिहाद का हिस्सा हैं और उस वक़्त तक ताईद ( समर्थन) जारी रहेगी जब तक हमें इज़्ज़त मिलती है। लेकिन बंगाल में हम तन्हा मुक़ाबला करेंगे। शरह सूद की अदायगी पर तीन साल पाबंदी का मसला फिर एक मर्तबा उठाते हुए चीफ़ मिनिस्टर मग़रिबी बंगाल ने कहा कि उन की हुकूमत इस मुतालिबा के ताल्लुक़ से कुछ वक़्त और इंतिज़ार करेगी।

उन्होंने कहाकि हम सब्र-ओ-तहम्मुल का मुज़ाहरा करते हुए इंतिज़ार करेंगे और कोई सूद अदा नहीं करेंगे। ममता बनर्जी ने कहा कि हमारी आमदनी 22 हज़ार करोड़ रुपये है और हमें 25 हज़ार करोड़ रुपये बतौर सूद अदा करना पड़ रहा है जो पेशरू ( अग्रगामी) बाएं बाज़ू हुकूमत ( left Party) का हमें दिया गया तोहफ़ा है।

उन्हों ने कहाकि वज़ीर-ए-आज़म से ये पूछा जाएगा कि साबिक़ बाएं बाज़ू हुकूमत को इस क़दर कसीर ( ज्यादा) क़र्ज़ हासिल करने की इजाज़त क्यों दी गई क्योंकि जुमला क़र्ज़ 2.03 लाख करोड़ रुपय तक पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि ज़रूरत पड़ने पर तृणमूल कांग्रेस के तमाम अरकान-ए-पार्लीमेंट ( संसद सदस्य) और असेंबली जी जे एम अरकान असेंबली के साथ मिलकर दिल्ली मार्च करेंगे और मुतालिबात को तस्लीम करने वज़ीर-ए-आज़म से मुलाक़ात की जाएगी।

ममता बनर्जी ने कहा कि वो बहैसीयत चीफ़ मिनिस्टर नहीं बल्कि एक आम शख़्स की हैसियत से ज़्यादा सख़्त मेहनत करती हैं। वो एक पाबंद डिसिप्लिन शख़्स हैं और इंतिज़ामीया चलाने के लिए कभी सख़्त और तेज़ हो जाती हैं लेकिन वो भी एक इंसान हैं और उन लोगों से मुहब्बत रखती हैं जिन की बेहतरी का वो अज़म किए हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT