Monday , December 18 2017

ईंधन के लिए हुकूमत की मज़ीद 25 हज़ार करोड़ रुपये सब्सीडी का ऐलान

नई दिल्ली, 12 फरवरी: ( पी टी आई ) हुकूमत सरकारी ज़ेर-ए-इंतिज़ाम ईंधन के रीटेलर्स को मज़ीद 25 हज़ार करोड़ रुपये नक़द सब्सीडी देगी ताकि मालिया के नुक़्सान का जुज़वी अज़ाला हो सके जो ऑटो और पकवान गैस माली लागत से कम क़ीमत पर फ़रोख़्त करने की वजह से हुआ

नई दिल्ली, 12 फरवरी: ( पी टी आई ) हुकूमत सरकारी ज़ेर-ए-इंतिज़ाम ईंधन के रीटेलर्स को मज़ीद 25 हज़ार करोड़ रुपये नक़द सब्सीडी देगी ताकि मालिया के नुक़्सान का जुज़वी अज़ाला हो सके जो ऑटो और पकवान गैस माली लागत से कम क़ीमत पर फ़रोख़्त करने की वजह से हुआ है ।

मरकज़ी वज़ारत फायनेंस ने फरवरी को एक तसकीन बख़्श मकतूब इंडियन ऑयल कारपोरेशन , भारत पेट्रोलीयम कारपोरेशन और हिंदूस्तान पेट्रोलीयम कारपोरेशन को रवाना करते हुए 25 हज़ार करोड़ रुपये की मंज़ूरी की इत्तिला दिया कि जारीया माली साल में डीज़ल , घरेलू पकवान गैस और केरोसीन की लागत से कम क़ीमत पर फ़रोख़्त की वजह से होने वाले नुक़्सान की जुज़वी पा बजाई हो सके ।

माज़ी में हुकूमत ने 30 करोड़ रुपये बतौर सब्सीडी जारी किए थे ताज़ा तरीन मंज़ूरी से तक़रीबन 44 फ़ीसद नुक़्सान जिसकी मालियत 124.854 करोड़ रुपये होती है पा बजाई होगी । ये ऑटो और पकवान गैस की लागत से कम क़ीमत पर फ़रोख्त की बिना पर इन तमाम कंपनीयों को जारीया माली साल में अप्रैल से दिस‍ंबर तक होने वाले नुक़्सान की मालियत है । ज़राए के बमूजब आई ओ सी को 13474.56 करोड़ , बी पी सी एल को 5987.25 करोड़ और एचपी सी एल को 5538.19 करोड़ रुपये हासिल होंगे ।

ज़राए के बमूजब मर्कज़ी वज़ीर फायनेंस ने एक तसकीन बख़्श मकतूब तमाम तेल कंपनीयों को रवाना किया है जो तीसरी सहि माही की आमदनी को बेहतर बना सकता है । हक़ीक़ी नक़द रक़म पार्लीमेंट की मंज़ूरी के बाद ही हासिल हो सकेगी । ज़िमनी मुतालिबात ज़र और इज़ाफ़ी अख़राजात के लिए मुतालिबात ज़र की मंज़ूरी तक रक़म के हुसूल के लिए उन कंपनीयों को इंतेज़ार करना होगा ।

TOPPOPULARRECENT