Saturday , May 26 2018

ईरानी तेल पर इन्हिसार का नये साल में जायज़ा लिया जाएगा

नई दिल्ली, 14 दिसंबर: (पीटीआई) हिंदूस्तान जिसने ईरान से अपनी तेल दरआमदात में कटौती करते हुए अमेरीकी शराइत की तकमील की है, वो ईरानी ख़ाम तेल पर अपने इन्हिसार ( निर्भर रहने) का नये साल में जायज़ा लेगा, वज़ीर उमोर ए ख़ारेजा सलमान ख़ुरशीद ने आज य

नई दिल्ली, 14 दिसंबर: (पीटीआई) हिंदूस्तान जिसने ईरान से अपनी तेल दरआमदात में कटौती करते हुए अमेरीकी शराइत की तकमील की है, वो ईरानी ख़ाम तेल पर अपने इन्हिसार ( निर्भर रहने) का नये साल में जायज़ा लेगा, वज़ीर उमोर ए ख़ारेजा सलमान ख़ुरशीद ने आज ये बात कही।

में समझता हूँ कि हम अमेरीकी शराइत के चौखटे में ही हैं। अमेरीकी छूट की शराइत की असल की तकमील हुई है जो ये है कि आपको इस (ईरानी तेल) पर इन्हिसारी में इज़ाफ़ा नहीं करना चाहीए। उन्होंने सी आई आई सेमीनार के मौक़ा पर ये बात कही। ख़ुरशीद ने ये भी कहा कि इस ज़िमन में नज़र ए सानी नये साल में की जाएगी।

क़ब्लअज़ीं जारीया साल अमेरीका ने हिंदूस्तान और 6 दीगर ममालिक को ईरान की तेल तिजारत के बारे में नई सख़्त मालीयाती तहदेदात से इस्तिस्ना देते हुए ये वजह बताई थी कि इन ममालिक की जानिब से ईरानी तेल की दरआमदात में नुमायां कटौती हुई है। हिंदूस्तान की जुमला तेल दरआमदात में ईरान से आने वाली ख़ाम दरआमदात में बतदरीज कमी आई है जैसा कि ये सतह 2008 09 में ज़ाइद अज़ 16 फ़ीसद से घट कर 2011 12 में लग भग 10 फ़ीसद हो गई।

ख़ुरशीद ने कहा कि हिंदूस्तान ने इस मसला पर एक उसूली मौक़िफ़ इख्तेयार किया है और ये मौक़िफ़ ईरान के बारे में अक़वाम-ए-मुत्तहिदा तहदीदात की मुताबिक़त में है। उन्होंने कहा कि जब आप कोई उसूली मौक़िफ़ इख्तेयार करते हो तो बाअज़ दफ़ा ये आप को नुक़्सान पहुंचाता है, लेकिन इस उसूलों मौक़िफ़ की वजह से हिंदूस्तान कई दीगर ममालिक से मुख़्तलिफ़ है और उसकी अमेरीका और ईरान की जानिब से क़दर की गई है।

TOPPOPULARRECENT