Wednesday , December 13 2017

ईरानी बमबार मलेशीया से तेहरान फ़रार तहक़ीक़ाती रिपोर्ट में इन्किशाफ़

ईरानी शहरी होशंग अफ़्सर जो मुबय्यना तौर पर गुज़श्ता माह इसराईली सिफ़ारत कार की गाड़ी को बम धमाके से उड़ाने में मुलव्वस है, मलेशीया में एक दिन गुज़ारने के बाद तेहरान के लिए रवाना हो गया। इसने बैंकाक में अपने साथी को नजर अंदाज़ करते हुए

ईरानी शहरी होशंग अफ़्सर जो मुबय्यना तौर पर गुज़श्ता माह इसराईली सिफ़ारत कार की गाड़ी को बम धमाके से उड़ाने में मुलव्वस है, मलेशीया में एक दिन गुज़ारने के बाद तेहरान के लिए रवाना हो गया। इसने बैंकाक में अपने साथी को नजर अंदाज़ करते हुए तेहरान की राह ली।

मलेशीया के हुक्काम की जानिब से रवाना कर्दा तहक़ीक़ाती रिपोर्ट के मुताबिक़ बमबार शख़्स कुवाला लुम्पुर पहुंचा और समझा जाता है कि वो अपने साथीयों को इंतेज़ार कर रहा था जिन्होंने थाईलैंड के दार-उल-हकूमत बैंकाक में इसी नौईयत के हमलों का मंसूबा बनाया था, लेकिन बैंकाक में हमलों की ख़बरें जैसी ही टेलीविज़न स्क्रीन्स पर नज़र आई इस ने 14 और 15 फरवरी की दरमयानी शब तेहरान को राह फ़रार इख्तेयार की।

हिंदूस्तान को रवाना कर्दा रिपोर्ट में ये तफ्सीलात बताई गईं। वाज़िह रहे कि बम हमला 13 फरवरी को किया गया था। मलेशीया की पुलिस ने कुवाला लुम्पुर एयर पोर्ट पर मसऊद सदाक़त ज़ादे को गिरफ़्तार किया था और इसकी फ़ोन बुक के ज़रीया हिंदूस्तानी सहाफ़ी सय्यद मुहम्मद अहमद काज़मी के नाम का भी इन्किशाफ़ हुआ।

बताया जाता है कि ये साज़िश यही से शुरू की गई थी। दाख़िली और ख़ारिजी एजेंसीयों के ओहदेदारों पर मुश्तमिल टीम ने ये तहक़ीक़ात की। बैंकाक के ज़रीया तहक़ीक़ाती रिपोर्टस का जब जायज़ा लिया गया तो इसमें ऐसी तसावीर भी शामिल थीं जिनमें सदाक़त ज़ादे और दीगर दो बमबारों सईद मुरादी और मुहम्मद करज़ई (बैंकाक में बम हमला के मंसूबा साज़) की तस्वीर भी शामिल थी।

उन्हें बाअज़ ख्वातीन के साथ देखा गया। इनमें से एक ख़ातून ने अपने मोबाईल फ़ोन से जो तस्वीर ली है, इनमें तीन ईरानी हुक़्क़ा पीते दिखाए गए हैं। बैंकाक पुलिस ने इनमें से एक ख़ातून का ब्यान भी कलमबंद किया है जिसमें ये इन्किशाफ़ हुआ कि ख़ातून को इस लिए अपनी टोली में शामिल किया गया था क्योंकि करज़ई अंग्रेज़ी रवानी से बोल नहीं सकता था।

TOPPOPULARRECENT