Friday , January 19 2018

ईरान ने मज़ीद फ़ौजी मुशीर शाम भेजे हैं – ओहदेदार

जेनरल हुसैन सलामी ने शाम में होने वाले जानी नुक़्सान के बारे में कुछ नहीं बताया। लेकिन ये ख़दशा ज़ाहिर किया जा रहा है कि शाम की ख़ानाजंगी में ईरानी मुदाख़िलत से उस का मज़ीद जानी नुक़्सान भी हो सकता है।

शाम में अस्करीयत पसंदों के ख़िलाफ़ सदर बशारुल असद की मदद के लिए ईरान ने मज़ीद फ़ौजी मुशीर भेजे हैं। ईरान के पासदाराने इन्क़िलाब के नायब सरब्राह जेनरल हुसैन सलामी ने मंगल को सरकारी टीवी से गुफ़्तगु में बताया कि उनकी फ़ोर्सेस रज़ाकारों को भी शाम में बाग़ीयों के ख़िलाफ़ सदर असद की मदद के लिए मुतहर्रिक करने की कोशिश कर रही हैं।

ताहम उन्होंने ये नहीं बताया कि इन बाग़ीयों में शाम में बरसरे पैकार मग़रिब के हिमायत याफ़्ता बाग़ी भी शामिल हैं या नहीं। उन्होंने शाम भेजे गए मुशीरों की तादाद के बारे में भी कोई तफ़सील फ़राहम नहीं की। ईरान और रूस सदर बशारुल असद के क़रीबी इत्तिहादी हैं और वो असद हुकूमत को फ़ौजी और सियासी हिमायत फ़राहम करते रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT