Friday , July 20 2018

ईरान- भारत के रिश्ते बिजनेस से कहीं बढ़कर है- हसन रुहानी

नई दिल्ली। इरानी राष्ट्रपति हसन रुहानी का भारत दौरा अपने आखिरी पड़ाव पर है। राष्ट्रपति रुहानी के इस दौरे के दौरान भारत और इरान के बीच कई ऐतिहासिक समझौते हुए। जो आने वाले दिनों में दोनों देशों के संबंधों में मिल का पत्थर साबित हो सकता है।

राष्ट्रपति रुहानी के दौरे के तीसरे और आखिरी दिन भारत और इरान के बीच कई महत्वपूर्ण समझौते हुए।

दिल्ली के हैदराबाद हाउस में इरान और भारत के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई। इस दौरान भारत और इरान ने दोनों देशों के शीर्ष नेताओं की उपस्थिति में एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद पीएम मोदी और इरानी राष्ट्रपति हसन रुहानी ने साझा संबोधन किया।

इरानी राष्ट्रपति हसन रुहानी ने कहा कि भारत के ग्रेट सरकार के द्वारा दिखाई गई दयालुता पर मैं एक बार फिर यहां के लोगों और भारत सरकार को तहे दिल से धन्यवाद देता हूं। दोनों देशों के बीच जो रिश्ते हैं वह व्यापार और बिजनेस से कहीं बढ़कर है।

यह हमारे इतिहास को बताता है। हम दो अहम वैश्विक मुद्दों पर अपने दृष्टिकोण साझा करते हैं वे हैं पारगमन और अर्थव्यवस्था। रुहानी ने आगे कहा कि हम दोनों देशों के बीच रेलवे स्टेशनों और चाबहार पोर्ट का विकास करना चाहते हैं।

वहीं पीएम मोदी ने अपने संबोधन में राष्ट्रपति रुहानी से कहा कि मैं 2016 में तेहरान गया था और अब आप यहां आए हैं। इससे हमारे रिश्ते और मजबूत और गहरे होते हैं।

मैं आपको चाबहार पोर्ट के विकास में अहम नेतृत्व के लिए धन्यवाद देता हूं। पीएम मोदी ने आगे कहा कि हम दोनों देश हमारे पड़ोसी अफगानिस्तान को सुरक्षित और समृद्ध देखना चाहते हैं।

TOPPOPULARRECENT