Thursday , December 14 2017

ईरान में अरब बाशिंदों की खु़फ़ीया क़ब्रों का इन्किशाफ़

ईरान में अरब आबादी के अक्सरीयती मशरिक़ी सूबा अल हवाज़ में इंसानी हुक़ूक़ के कारकुनों ने हिरासती मराकज़ में अज़ीयतें और फांसी दे कर क़त्ल किए गए कारकुनों की खु़फ़ीया क़ब्रों का पता चला है।

ईरान में अरब आबादी के अक्सरीयती मशरिक़ी सूबा अल हवाज़ में इंसानी हुक़ूक़ के कारकुनों ने हिरासती मराकज़ में अज़ीयतें और फांसी दे कर क़त्ल किए गए कारकुनों की खु़फ़ीया क़ब्रों का पता चला है।

अरब टी वी के मुताबिक़ ये खु़फ़ीया क़ब्रें रामज़ शहर के क़रीब एक सहरा में मिली हैं जिन में रवां साल के आग़ाज़ में क़त्ल किए गए दो मुक़ामी स्कूल मालमीन हादी राश्दी और हाशिम शाबानी को दफ़न किया गया था। मुक़ामी शहरीयों और ऐनी शाहिदीन का कहना है कि उन्हों ने मैयतों की शनाख़्त की है और दोनों का ताल्लुक़ जोबिजी कॉलोनी से था।

अहवाज़ी अरब बाशिंदों के हुक़ूक़ के लिए सरगर्म एक ग्रुप ने अपने ब्यान में बताया है कि हादी राश्दी और हाशिम शाबानी को जनवरी 2014 को राज़दारी में फांसी देने के बाद उन की मैयतें रिश्तेदारों के हवाले करने बजाय उन्हें आबादी से कोसों दूर एक सहरा में दफ़न किया गया था।

TOPPOPULARRECENT