Thursday , January 18 2018

ईरान मज़ीद गहरे बाहमी ताल्लुक़ात का ख़ाहां

नई दिल्ली, 4 जनवरी: ईरान ने आज हिंदूस्तान के साथ गहरे बाहमी रवाबित और स्कियोरटी और मआशी शोबे में ज़्यादा तआवुन के लिए काफ़ी ज़ोर देते हुए कहा कि दोनों मुल्कों को मुश्तर्क ख़तरात और मुफ़ादात का सामना है। ईरान ने चाबहार पोर्ट की एहमीयत और

नई दिल्ली, 4 जनवरी: ईरान ने आज हिंदूस्तान के साथ गहरे बाहमी रवाबित और स्कियोरटी और मआशी शोबे में ज़्यादा तआवुन के लिए काफ़ी ज़ोर देते हुए कहा कि दोनों मुल्कों को मुश्तर्क ख़तरात और मुफ़ादात का सामना है। ईरान ने चाबहार पोर्ट की एहमीयत और तवानाई सलामती पर भी ज़ोर दिया जो वो गैस और तेल के माम‌ले में फ़राहम करसकता है।

हमारे मुश्तर्क मुफ़ादात और ख़तरात हैं। इस से ज़्यादा राबतों, ज़्यादा मुज़ाकरात और ज़्यादा मुशावरतों की ज़रूरत ज़ाहिर होती है, सईद जलीली, मोतमिद, आला तरीन क़ौमी सलामती कौंसल, ईरान ने यहां ये बात कही। ये निशानदेही करते हुए कि ईरान के हिंदूस्तान के साथ काफ़ी अच्छे ताल्लुक़ात हैं, जलीली ने जिन की अपने हिंदूस्तानी हम मंसब क़ौमी सलामती मुशीर शिव शंकर मेनन से अपने सहि रोज़ा सरकारी दौरे के दौरान मुलाक़ात हुई, कहा कि दोनों मुल्कों के क़ाइदीन ताल्लुक़ात को गहरा करने और वुसअत देने के पाबंद अह्द हैं।

उन्होंने कहा कि स्कियोरटी, सियासी और मआशी शोबे में तआवुन हमें सक़ाफ़्ती शोबे में भी ताल्लुक़ात को वुसअत देने का मौक़ा फ़राहम करता है। उन्होंने कहा कि इस रिश्ते का मुस्तक़बिल काफ़ी अच्छा है और बाहमी रवाबित बडेंगे। जलीली ने जो ईरान के आला न्यूक्लियर मुज़ाकरात कार भी हैं, कहा कि उनकी मेनन के साथ अच्छी बातचीत हुई।

उन्होंने कहा, हम में अच्छा तआवुन रहा और हमारे मुश्तर्क ख़तरे पर अच्छा तबादला-ए-ख़्याल हुआ। बाअज़ इलाक़ाई मसाइल हैं जैसे मुनज़्ज़म जुर्म, मुनश्शियात की स्मगलिंग और दहश्तगर्दी। उन्होंने मज़ीद कहा कि ख़ित्ता में मुश्तर्क ख़तरात हैं जैसे मुनज़्ज़म जुर्म, दहश्तगर्दी और क़ज़्ज़ाक़ी जैसे नए अनासिर।

ये ऐसे मसाइल हैं जो तआवुन के मुतक़ाज़ी हैं और मौक़े फ़राहम करते हैं। ये पूछने पर कि आया न्यूक्लियर तआवुन मेनन के साथ बातचीत का हिस्सा रहा, उन्होंने कहा, हम ने मुख़्तलिफ़ शोबों पर बातचीत की, लेकिन न्यूक्लियर मसला ज़ेर-ए-बहस नहीं आया, नीज़ ये कि तहरान न्यूक्लियर मसले को अहम मानता है।

इस सवाल पर कि आया हिंदूस्तान न्यूक्लियर मसले पर P5+1 के साथ उनकी बातचीत को सहल बना रहा है, उन्होंने कहा, ख़ुसूसीयत से नहीं, हम बिलउमूम उन (हिंद) से तबादला-ए-ख़्याल और मुशावरत करते हैं।

TOPPOPULARRECENT