Wednesday , December 13 2017

ईरान हमारी बात मान लें

* एटमी प्रोग्राम से जुडे तमाम पुराने मस्लें हल करने जी 8 क़ाइदीन का ज़ोर

* एटमी प्रोग्राम से जुडे तमाम पुराने मस्लें हल करने जी 8 क़ाइदीन का ज़ोर
कैंप डेविड। ईरान पर दबाव बाकी रखते हुए दुनिया की सब से ताक़तवर आठ मईशतों के क़ाइदीन ने इस से कहा कि वो अपने एटमी प्रोग्राम‌ से जुडे तमाम पुराने मस्लों को तैज़ी से हल‌ करले।

जी 8 क़ाइदीन ने कहा कि ईरान हमारी बात मान ले और मस्लों को हल करले। क़ाइदीन ने वायदा किया कि वो आम तेल की मार्किटों को तहरान पर तेल कि पाबंदीयों के बावजूद पुरी और वक़्त पर‌ तेल देने को यक़ीनी बनाएंगे।

अपने कैंप डेविड आदेश पत्र में ग्रुप 8 क़ाइदीन ने शाम के लिए कोफ़ी अन्नान के सफाया वाले प्लान‌ की हिमायत की। शुमाली कोरिया को और जयादा भड्काने के ख़िलाफ़ चुनौती दि। इस के इलावा अफ़्ग़ानिस्तान में फ़ौजी इख़्तयारात को मुंतकिल करने के लिए मआशी असरात को बेहतर बनाने के इक़दामात करने का वायदा किया गया और यूनान पर ज़ोर दिया गया कि वो यूरोज़ोन में बाकी रहे।

क़र्ज़ के बोहरान का सामना करने वाले यूनान को यूरोज़ोन से बाहर ना रहने का मश्वरा दिया गया। ईरान को पाबंदियों का सामना है, इस लिए जी 8 क़ाइदीन ने कहा कि पुरी दुनीया मे तेल सप्लाइ में बढ़ती ख़ललअंदाज़ी, आलमी मईशत के लिए संगीन जोखिम बनती जा रही है। इस तेल की फ़रोख़त में और जयादा ख़ललअंदाज़ी को रोकने के लिए इक़दामात के इलावा आने वाले महीनों में तेल की मांग‌ में मज़ीद इज़ाफ़ा की तवक़्क़ो ज़ाहिर की गई।

कैंप डेविड में हुए जी 8 क़ाइदीन के मुल्कों के सिलसिला वार इजलासों के इख़तताम पर अमेरीकी सदारती तफ़रीहगाह में एक डिनर का एहतिमाम किया गया था जिस में जी 8 ने ईरान के न्यूक्लीयर प्रोग्राम पर बहुत जयादा चिंता जाहिर कि गइ।

इसी दौरान शिकागो में आज अहम नाटो चोटी कान्फ्रंस की शुरूआत के लिए अमेरीका , अफ़्ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के सुदूर के सथ लगभग‌ 60 ममालिक के क़ाइदीन ने काबुल को दुनिया भर कि हिमायत देने वाले एक रोड मेप‌ तैयार करने पर तवज्जा दी है। इस के लिए जवाइंट एग्ज़िट असटराटीजी ब्लयू प्रिंट तैयार किया जा रहा है।

दो रोज़ा चोटी कान्फ्रंस में 28 रुकनी नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी आर्गेनाईज़ेशन (नाटो) अफ़्ग़ानिस्तान में अमेरीकी फोर्सेस की ज़ेर-ए-क़ियादत तमाम लड़ाका अफ़्वाज में 2013-ए-के गर्मा तक कमी की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT