ईवीएम की सुरक्षा पर फिर उठे सवाल, कांग्रेस ने कहा- प्रतिबंधित क्षेत्रों में वाईफाई एक्टिव क्यों?

ईवीएम की सुरक्षा पर फिर उठे सवाल, कांग्रेस ने कहा- प्रतिबंधित क्षेत्रों में वाईफाई एक्टिव क्यों?

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का परिणाम 11 दिसंबर को घोषित किया जाना है। ऐसे में चुनाव परिणाम से पहले कांग्रेस ने ईवीएम की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठाया है। खबरों के मुताबिक, मध्य प्रदेश के इंदौर और कुछ अन्य इलाकों में स्ट्रांग रूम के प्रतिबंधित क्षेत्र में वाईफाई चल रहा है। ईवीम की सुरक्षा को लेकर कांग्रेस ने सवाल उठाते हुए चुनाव आयोग से पूछा है कि स्ट्रांग रूम और आसपास के इलाकों में वाईफाई और इंटरनेट सेवा कैसे जारी है। जबकि निर्वाचन आयोग ने सुरक्षा कारणों से स्ट्रांग रूम और आसपास वाईफाई और इंटरनेट सेवा पर प्रतिबंध लगाया हुआ है।

राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने चुनाव परिणाम से पहले कुछ जगहों पर वाईफाई की सुविधा होने पर एतराज जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि इससे शक पैदा हो रहा है कि मतगणना के दौरान कुछ गड़बड़ी हो सकती है। उन्होंने आगे कहा कि, “इंदौर और कुछ अन्य जगहों पर जहां ईवीएम रखे गए हैं, वहां वाईफाई चल रहा है। इससे मतगणना की निष्पक्षता पर गंभीर संदेह खड़ा होता है।” तन्खा ने चुनाव आयोग को तत्काल संज्ञान लेने की अपील की है।

वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी विवेक तन्खा के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, “क्या चुनाव आयोग स्पष्ट करेगा? राज्य चुनाव आयोग ने वादा किया था कि स्ट्रॉन्ग रूम जहा ईवीएम रखे गए हैं और जहां गिनती होनी है उस जगह वाईफाई नहीं होगा।”

दूसरी ओर प्रदेशभर से ईवीएम को लेकर आ रही खबरों के बीच रविवार को कांग्रेस नेताओं ने एक बार फिर चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया। कांग्रेस नेताओं का प्रतिनिधिमंडल रविवार को चुनाव आयोग से मिलने पहुंचा। कांग्रेस ने ईवीएम की सुरक्षा और स्ट्रांग रूम में रखरखाव को लेकर आयोग से शिकायत दर्ज कराई।

मध्य प्रदेश में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कोई यह पहला मामला नहीं है। बता दें कि इससे पहले मध्य प्रदेश के सतना में ईवीएम की सुरक्षा पर सवाल उठे थे जब स्ट्रांग रूम के भीतर अज्ञात बक्से ले जाने के वीडियो फुटेज सामने आई थी। कांग्रेस ने 30 नवंबर को इस घटना का वीडियो भी ट्वीट किया था।

इसके अलावा मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को हुए मतदान से 48 घंटे बाद ईवीएम से भरी एक बिना नंबर प्लेट लगी बस, सागर जिला कलेक्टर दफ्तर पहुंची। यह मशीनें मध्यप्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह के खुरई विधानसभा क्षेत्र से आई थीं।

Top Stories