Wednesday , December 13 2017

ई पासपोर्ट आइन्दा साल से

क़ौमी सतह पर सालाना एक करोड़ पासपोर्ट की इजराई और मुल्क भर में पासपोर्ट सेवा केंद्र की तादाद में इज़ाफ़ा करने के मुताल्लिक़ मंसूबा बंदी की जा रही है और आइन्दा साल तक ई पासपोर्ट मुतारिफ़ करवाने पर तवज्जा मर्कूज़ किए हुए इक़दामात किए जा रह

क़ौमी सतह पर सालाना एक करोड़ पासपोर्ट की इजराई और मुल्क भर में पासपोर्ट सेवा केंद्र की तादाद में इज़ाफ़ा करने के मुताल्लिक़ मंसूबा बंदी की जा रही है और आइन्दा साल तक ई पासपोर्ट मुतारिफ़ करवाने पर तवज्जा मर्कूज़ किए हुए इक़दामात किए जा रहे हैं। चीफ पासपोर्ट ऑफीसर मुकतेश के प्रदेशी जोइंट सेक्रेट्री वज़ारते ख़ारजा ने आज हैदराबाद रीजनल पासपोर्ट ऑफीसर सिरीकर रेड्डी के हमराह प्रेस कान्फ़्रैंस से ख़िताब के दौरान इन ख़्यालात का इज़हार किया।

मुकतेश के प्रदेशी ने बताया कि बैनुल अक़वामी सतह पर चीन और अमरीका सब से ज़्यादा पासपोर्ट जारी करने वाले ममालिक हैं और बहुत जल्द हिंदुस्तान भी इन ममालिक की फ़ेहरिस्त में शामिल होने जा रहा है। उन्हों ने बताया कि ई पासपोर्ट निज़ाम को राइज करने के मुताल्लिक़ मंसूबा बंदी की जा रही है। इस मंसूबा को हुकूमत की मंज़ूरी हासिल हो चुकी है और पासपोर्ट ओहदेदार और माहिरीन इस का जायज़ा ले रहे हैं।

मुकतेश के बामूजिब आइन्दा बरस तक ई पासपोर्ट के आग़ाज़ की तवक़्क़ो है लेकिन ये क़तई मुद्दत नहीं होगी। उन्हों ने सालाना पासपोर्ट्स की इजराई के सिलसिले में बताया कि क़ौमी सतह पर साल गुज़िश्ता के दौरान 85 लाख पासपोर्ट की इजराई अमल में आई और इस साल एक करोड़ पासपोर्ट की इजराई का निशाना मुक़र्रर किया गया है।

सिरीकर रेड्डी ने कहा कि हैदराबाद रीजनल पासपोर्ट ऑफ़िस की कारकर्दगी में नुमायां बेहतरी पैदा हुई है और पुलिस तहक़ीक़ के लिए वक़्त के ताऐय्युन के बाद हालात मज़ीद बेहतर हुए हैं। उन्हों ने कहा कि मर्कज़ी वज़ारते ख़ारजा की जानिब से ज़िला करीमनगर में मनज़ूरा पासपोर्ट सेवा लघू केन्र्ल का 8 फ़ेब्रुअरी को चीफ पासपोर्ट ऑफीसर मुकतेश के प्रदेशी इफ़्तिताह अंजाम देंगे।

उन्हों ने बताया कि दरख़ास्तों के इदख़ाल के लिए पासपोर्ट सेवा केंद्र में वक़्त ना मिलने की शिकायात का जायज़ा लिया जा रहा है और इस सिलसिले में ऑनलाइन फीस की अदाएगी की सहूलत की फ़राहमी के ज़रीए दरख़ास्त गुज़ारों की तादाद में इज़ाफ़ा के इक़दामात किए जा चुके हैं।

TOPPOPULARRECENT