Sunday , December 17 2017

उद्धव ठाकरे वज़ीर ए आला बनना चाहते , लोगों से मांगा एक मौका

मुंबई. पहली बार किसी आवामी मंच से वज़ीर ए आला बनने की अपनी खाहिश जाहिर करते हुए शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने हफ्ते के रोज़ आवाम से उन्हें एक मौका देने को कहा और साथ ही कहा कि इसके लिए आवाम को पछताना नहीं पड़ेगा। महाराष्ट्र विधानसभा इंतेखाबात में कांग्रेस-एनसीपी की ही तरह बीजेपी और शिवसेना के बीच भी सीट बंटवारे को लेकर कोई आखिरी फॉर्मूला तय नहीं हो पाया है। ऊपर से आरपीआई, स्वाभिमानी शेतकरी तंज़ीम जैसी पार्टियां भी दो प्वाइंट्स में सीटें चाहती हैं। ऐसे में शिवसेना के तरजुमान अखबार सामना के इदारिया के जरिये शिवसेना के Executive Chairman उद्धव ठाकरे ने साथियों को खूब लताड़ा है।

सामना के इदारिया में उद्धव ने लिखा है, इत्तेहाद को इक्तेदार (सत्ता) में लाना सभी इतेहादियों का खाब होना चाहिए, ज्यादा सीटों की ललक सबको छोड़नी होगी, इतना मिला तो ही इत्तेहाद में रहेंगे, नहीं तो अपना रास्ता, ये ठीक नहीं है। याद रखिए ज्यादा लालच तलाक की ओर ले जाता है।

हालांकि शिवसेना के गरम तेवर पर बीजेपी नरम है। बीजेपी लीडर विनोद तावड़े ने कहा, मैंने इदारिया पढ़ा नहीं है और न ही मैंने उद्धव ठाकरे का बयान सुना है, इसलिए मैं इस पर कोई तब्सिरा नहीं कर सकता।

महाराष्ट्र विधानसभा में 288 सीटें हैं। गुजश्ता कई सालों से और 2009 में भी शिवसेना 169 सीटों पर लड़ी थी, उसे जीत मिली थी 44 सीटों पर, जबकि 119 सीटों पर लड़कर बीजेपी 46 सीटें जीतकर लाई थी। ऐसे में लोकसभा में शानदार मुज़ाहिरा के बाद बीजेपी महाराष्ट्र में छोटे भाई का चोला उतारकर बराबरी चाहती है।

उधर, आरपीआई अठावले, स्वाभिमानी शेतकरी तंज़ीन जैसे छोटी पार्टीयों ने भी दो प्वाइंट्स में सीट की डिमांड रखी है और मांग नहीं मानने पर इतेहाद तोड़ने की धमकी दी है। इन सबके बावजूद बीजेपी का मानना है कि सब कुछ ठीक ठाक है। महाराष्ट्र विधानपरिषद में अपोजिशन लीडर विनोद तावड़े ने कहा, बातचीत मुसबत सिम्त में चल रही है। हम जल्द ही सीट बंटवारे पर आखिरी फैसला ले लेंगे…हम सबका मकसद है कि रियासत को कांग्रेस-एनसीपी की हुकूमत से आज़ादी दिलाएं।

ज़राये के मुताबिक शिवसेना, बीजेपी को 119 से बढ़ाकर तकरीबन 135 सीटें देने पर तैयार हो गई है, लेकिन अब भी पेंच आरपीआई अठावले, स्वाभिमानी शेतकरी तंज़ीम , कौमी मआशरे के हक जैसे इत्तेहादी पार्टी को लेकर फंसा है, क्योंकि उन्हें भी सीटों का आंकड़ा 10 के पार चाहिए।

विधानसभा इंतेखाबात में सीटों के बंटवारे को लेकर भाजपा के साथ ताल्लुकात में चल रहे तनाव के बीच उद्धव ने महाराष्ट्र की सियासत में शिवसेना के दबदबे का इशारा देते हुए कहा कि भगवा इतेहाद के सत्ता में आने की सूरत में रियासत पर राज करने वाला शख्स सिर्फ शिवसेना से होगा।

एक निजी न्यूज चैनल की तरफ से मुनाकिद बातचीत में उद्धव ने कहा, मैं चाहता हूं कि लोग मुझे एक मौका दें और उन्हें शिकायत का मौका नहीं मिलेगा। शिवसेना सदर ने इसके साथ ही कहा कि वह सीएम के ओहदा का खाब नहीं देख रहे हैं लेकिन जिम्मेदारी उठाने से भागेंगे भी नहीं।

उन्होंने कहा, इसका फैसला लोगों को करना है, अगर वे मुझ पर भरोसा करते हैं तो। उन्हें फैसला करना होगा कि वे किस शख्स (वज़ीर ए आला के ओहदा पर) को देखना चाहते हैं। मैं किसी ओहदा के पीछे नहीं दौड़ रहा हूं, लेकिन जिम्मेदारी लेने से भागूंगा भी नहीं। यह पूछे जाने पर कि क्या यह शख्स शिवसेना से होगा, उद्धव ने कहा, यह सिर्फ शिवसेना से ही होगा। उद्धव ने कहा कि अक्सर उनकी कियादत के खुसूसियात को लेकर सवाल किए जाते हैं, लेकिन मैं बाला साहिब (बाल ठाकरे) का बेटा हूं और कभी जिम्मेदारी लेने से पीछे नहीं हटूंगा।

भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे को आखिरी शक्ल देने में हो रही ताखीर के बारे में पूछे जाने पर उद्धव ने कहा, मेरी ओर से कोई दिक्कत नहीं है।

TOPPOPULARRECENT