Thursday , April 19 2018

उन्नाव गैंगरेप- यूपी सरकार ने सीबीआई जांच और विधायक पर दिये FIR के आदेश, 3 अधिकारी सस्पेंड

उन्नाव लड़की का गैंगरेप और पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में यूपी सरकार ने सीबीआई जांच कराने के आदेश दिये हैं। इस मामले की जांच के लिए गठित स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम की रिपोर्ट के आधार पर प्रदेश सरकार द्वारा विधायक व अन्य के खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज करने और पूरे मामले की सीबीआई जांच कराने का आदेश दिया गया है।

इसके साथ ही पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही बरतने वाले जिला अस्पताल के दो इमरजेंसी मेडिकल आफिसर डॉ डीके द्विवेदी, डॉ प्रशांत उपाध्याय और सीओ सफीपुर कुंवर बहादुर सिंह को निलंबित कर दिया गया है। वहीं जिला अस्पताल के आर्थो सर्जन डॉ मनोज कुमार, सर्जन डॉ जीपी सचान और ईएमओ डॉ गौरव अग्रवाल के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

इस संबंध में प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने बताया कि बुधवार को एडीजी जोन, लखनऊ द्वारा शासन को एसआईटी की जांच रिपोर्ट सौंपी गई थी। इसके अलावा डीआईजी जेल लव कुमार ने जेल प्रशासन की भूमिका और डीएम उन्नाव ने भी जिला अस्पताल के डॉक्टरों की तरफ से इलाज में बरती गई लापरवाही के संबंध में शासन को अपनी रिपोर्ट भेजी थी। इन तीनों रिपोर्ट्स और एसआईटी की सिफारिश के आधार पर शासन द्वारा विधायक समेत अन्य आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और सीबीआई से इस मामले की जांच कराने का आदेश दिया गया।

गैंगरेप के अलावा तीन अप्रैल को हुई मारपीट की घटना और पीड़िता के पिता की मौत के मामले में भी सीबीआई जांच का आदेश दिया गया है। कहा जा रहा है कि जिलाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही होने की बात कही है, जिसके बाद शासन द्वारा जिला अस्पताल के चिकित्सकों को निलंबित किया गया है। वहीं क्षेत्राधिकारी सफीपुर कुंवर बहादुर सिंह को पीड़िता द्वारा बार-बार शिकायत किए जाने के बाद भी मामले की जांच और कार्रवाई में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित किया गया है। इसके अलावा शासन ने पीड़िता के परिवार को हर संभव सुरक्षा मुहैया कराने के भी आदेश दिये हैं।

बता दें कि शासन द्वारा इन आदेशों के जारी होने से पूर्व गैंगरेप के मामले में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर देर रात लखनऊ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के आवास पर पहुंचे थे। रात करीब 11.30 बजे कई गाड़ियों के काफिले के साथ एसएसपी के घर पहुंचे कुलदीप ने यहां मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह एसएसपी के घर सिर्फ यह बताने आए थे कि वह फरार नहीं हैं। मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कुलदीप सिंह ने कहा, ‘मेरे लिए यह कहा जा रहा है कि मैं फरार हूं या कहीं चला गया हूं, लेकिन मैं सबके बीच हूं आज यहां ये ही बताने आया हूं। कुलदीप ने कहा कि अगर मेरे खिलाफ कोई अरेस्ट वॉरंट है तो मेरी गिरफ्तारी होनी चाहिए। लेकिन फिलहाल मैं सरेंडर नहीं कर रहा हूं। मुझे एसआईटी की रिपोर्ट के बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन जो कुछ सुना है वह सब मीडिया से ही सुना है।’

TOPPOPULARRECENT