Tuesday , July 17 2018

उपचुनाव के नतीजों ने बदला मध्यप्रदेश में राजनीतिक समीकरण, कांग्रेस की तरफ जनता का रुझान

करीब 15 साल से मध्य प्रदेश की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बुधवार को आए दो विधानसभा क्षेत्रों के उप-चुनावों के परिणामों से झटका लगा है। तमाम कोशिशों के बावजूद भाजपा के हाथों से ये दोनों सीटें निकल गईं।

यहां मुकाबला शिवराज सरकार बनाम कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच हो गया था। चुनाव नतीजों से यह संकेत मिल रहा है कि प्रदेश में भाजपा के लिए पहले जैसा अनुकूल माहौल नहीं रहा है। वहीं, चुनाव परिणाम जनता के मूड में बदलाव की ओर भी इशारा कर रहे हैं।

राज्य में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले शिवपुरी के कोलारस और अशोकनगर के मुंगावली विधानसभा क्षेत्रों के उप-चुनाव काफी अहम माने जा रहे थे। सत्ताधारी पार्टी और सरकार ने चुनाव जीतने के अपने प्रयास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी।

वहीं, कांग्रेस की कमान युवा सांसद सिंधिया के हाथ में थी। उन्हें चुनाव प्रचार अभियान में पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ, प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया और सहरिया जनजाति में गहरी पैठ रखने वाले मनीष राजपूत का भरपूर साथ मिला।

चुनाव नतीजों पर बुद्धिजीवी साजी थॉमस ने कहा, “ये उप-चुनाव हर दृष्टि से प्रदेश सरकार के लिए अहम थे, क्योंकि पिछले दिनों मंदसौर में किसानों पर गोली चलने की घटना के बाद से जगह-जगह किसान आंदोलन और कर्मचारी वर्गो के आंदोलन चल रहे हैं।

वहीं, केंद्र सरकार की ओर से नोटबंदी और जीएसटी लागू करने को लेकर लोगों में जो नाराजगी है, उसमें अगर अगर भाजपा जीत हासिल करती तो यह माना जाता कि शिवराज का करिश्मा अब तक बरकारार है, मगर ऐसा नहीं हुआ।”

उन्होंने कहा कि उप-चुनाव के नतीजों से भाजपा और सरकार को यह इशारा जरूर मिला है कि आने वाला समय उनके लिए बहुत अच्छा नहीं है। यह बात सही है कि, यह दोनों विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस के कब्जे वाले रहे हैं, साथ ही यह सांसद सिंधिया के संसदीय क्षेत्र के अधीन आते हैं।

उसके बावजूद राज्य के मुख्यमंत्री चौहान और संगठन ने जीत के लिए किसी तरह की कमी नहीं छोड़ी। लगभग पूरा मंत्रिमंडल और संगठन के पदाधिकारी कई-कई दिन तक यहां डेरा डाले रहे। वहीं सिंधिया के करीबी और सांसद प्रतिनिधि के. पी. यादव को भाजपा में शामिल कराकर सिंधिया को बड़ा झटका दिया था।

मुख्यमंत्री चौहान ने लगभग हर सभा और जनसंपर्क के दौरान दोनों जगहों के मतदाताओं से पांच माह के लिए भाजपा का विधायक मांगा और वादा पूरे न करने पर अगले चुनाव में नकार देने तक की बात कही, मगर जनता का उन्हें साथ नहीं मिला।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस हार को स्वीकारते हुए कहा है कि, यह दोनों क्षेत्र कांग्रेस के थे। यहां आम चुनाव में कांग्रेस बड़े अंतर से जीती थी। उसके बाद भी भाजपा के कार्यकर्ताओं ने काफी मेहनत की और मुकाबले को बनाए रखा। भाजपा बहुत कम अंतर से हारी है।

TOPPOPULARRECENT