Monday , December 18 2017

उर्दू असातिज़ा की बहाली, एक से 10 फरवरी तक लगेगा कैंप

पटना : उर्दू व बांग्ला असातिज़ा की बहाली के लिए एक से 10 फरवरी तक जिला व ब्लॉक में कैंप लगेगा। कैंप के जरिये ही अब उन्हें तक़र्रुरी लेटर दी जायेगी। तालीम वज़ीर अशोक चौधरी ने कैंप लगाने के महकमा के परपोजल पर अपनी मुहर लगा दी है।

नौ और 28 दिसंबर को दो बार तक़र्रुरी लेटर तक़सीम के अमल में अब तक करीब छह हजार उम्मीदवारों को तक़र्रुरी लेटर बांटे जा चुके हैं, लेकिन करीब एक हजार लोगों ने ही अपना किरदार दिया है। बाकी ओहदे अभी भी खाली हैं। पंचायत सतह के उर्दू असातिज़ा के लिए ब्लॉक सतह पर कैंप लगेगा, जबकि ब्लॉक, शहर कौंसिलर, पंचायत व जिला कौंसिल सतह के असातिज़ा के लिए जिला में कैंप लगेगा। रियासत में कुल 27 हजार उर्दू असातिज़ा की बहाली होनी थी, जबकि उर्दू के टीइटी पास 15,310 उम्मीदवार हैं।

उर्दू असातिज़ा की बहाली के लिए सबसे पहले नौ सितंबर को ही काउसेंलिंग कर तक़र्रुरी यूनिट की तरफ से तक़र्रुरी लेटर दिया जाना था, लेकिन जाब्ता एखलाक क़ानून लग जाने से यह मुमकिन नहीं हो सका। हुकूमत बनने के बाद महकमा ने जिन तक़र्रुरी यूनिट ने फेहरिस्त आम कर दी थी उन्हें तक़र्रुरी लेटर बांटने के लिए नौ दिसंबर और जहां तैयार नहीं था उन्हें 28 दिसंबर को तक़र्रुरी लेटर बांटने का waqt दिया गया। नौ दिसंबर 2015 को 172 उम्मीदवारों को ही तक़र्रुरी लेटर दिया जा सका था। वहीं, 28 दिसंबर को करीब 5500 उम्मीदवारों को तक़र्रुरी लेटर इशू किया गया। इन उम्मीदवारों को 27 जनवरी तक अपना कंट्रीब्यूशन देना है।

ऑल बिहार खुसूसी उर्दू-बांग्ला टीइटी कामयाब उम्मीदवार यूनियन के सदर अब्दुल बाकी अंसारी ने कैंप का शिड्यूल जारी करने के लिए हुकूमत को मुबारकबाद दी है। उन्होंने कहा कि तक़र्रुरी लेटर मिलने के बाद भी उर्दू उम्मीदवार कंट्रीब्यूशन नहीं कर रहे हैं। वे चाहते हैं कि कैंप के जरिये उन्हें मनचाही जगह मिल जाये, जिसमें वे अपना कंट्रीब्यूशन दे सकें।

TOPPOPULARRECENT