Monday , July 23 2018

उर्दू के नाम पर क़ायम तारीख़ी सिटी कॉलेज में उर्दू से दुश्मनी

गवर्नमेंट सिटी कॉलेज हैदराबाद का शुमार ना सिर्फ़ हैदराबाद बल्कि मुल्क के क़दीम तरीन तालीमी इदारों में होता है। इस कॉलेज से कई चीफ मिनिस्टर्स, अहम सियासतदां वाइस चांसलर्स, डॉक्टर्स, इन्जीनियर्स, मशहूर और मारूफ़ क़ानूनदां, मायानाज़

गवर्नमेंट सिटी कॉलेज हैदराबाद का शुमार ना सिर्फ़ हैदराबाद बल्कि मुल्क के क़दीम तरीन तालीमी इदारों में होता है। इस कॉलेज से कई चीफ मिनिस्टर्स, अहम सियासतदां वाइस चांसलर्स, डॉक्टर्स, इन्जीनियर्स, मशहूर और मारूफ़ क़ानूनदां, मायानाज़ अदीब और शोरा,ओलंपियन और खिलाड़ियों ने तालीम हासिल की।

फ़न तामीर के लिहाज़ से भी हमारे मुल्क के कई तालीमी इदारे गवर्नमेंट सिटी कॉलेज की ख़ूबसूरत इमारत का मुक़ाबला नहीं कर सकते। आसिफ़ साबह नवाब मीर उसमान अली ख़ान बहादुर के दौर में 8,36,913 रुपये के मसारिफ़ से इस तीन मंज़िला कॉलेज की तामीर अमल में आई थी और एक स्कूल से तरक़्क़ी करते हुए ये अब ऐसे कॉलेज में तब्दील हो चुका है जहां इंटरमेडीएट से लेकर पोस्ट ग्रैजूएशन की सतह तक तालीम का इंतेज़ाम है।

जैसा कि हम ने कहा कि इस कॉलेज से अपने वक़्त की कई मशहूर हस्तियों ने इस्तिफ़ादा किया और इस उर्दू मीडियम कॉलेज में तालीम हासिल करने को लोग बाइसे फ़ख़र समझा करते थे। लेकिन अफ़सोस के एक उर्दू मीडियम स्कूल की हैसियत से शुरू हुए इस कॉलेज में अब उर्दू से ही दुश्मनी की जाने लगी है इसी तरह अरबी के साथ भी तास्सुब बरता जा रहा है।

इंटरमेडीएट में दाख़िला लेने वाले तलबा को ज़बान दोम की हैसियत से उर्दू और अरबी की बजाय हिन्दी लेने पर मजबूर किया जा रहा है। इस ज़िमन में तलबा और औलियाए तलबा की एक कसीर तादाद ने दफ़्तर सियासत पर पहुंच कर बताया कि कॉलेज में उर्दू मीडियम काफ़ी अर्सा क़ब्ल बरख़ास्त हो चुका है वहां अंग्रेज़ी और तेलुगु मीडियम में तालीम दी जाती है।

सिटी जूनियर कॉलेज में 90 फ़ीसद मुस्लिम तलबा हैं जो गरीब और मुतवस्सित ख़ानदानों से ताल्लुक़ रखते हैं। वटे पल्ली, शाहीन नगर, फ़लक नुमा, ईदी बाज़ार, बाबा नगर, चंदरायन गट्टा, हसन नगर, कारवाँ, आसिफ़ नगर, झिर्रा, टप्पाचबूतरा वगैरह से तलबा इस कॉलेज को आते हैं। डिग्री कॉलेज में भी तलबा के साथ इमतियाज़ी रवैया बरते जाने की शिकायात आम हैं।

रमज़ानुल मुबारक के दौरान एन सी सी के मुस्लिम तलबा को कोई रियायत नहीं दी गई। नतीजा में कम अज़ कम 10 मुस्लिम तलबा ने ख़ुद को एन सी सी से दस्तबरदार करा लिया। डिप्टी चीफ मिनिस्टर महमूद अली चूँकि के सी आर हुकूमत में वाहिद मुस्लिम नुमाइंदा हैं उन्हें इस बारे में तवज्जा देने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT