Tuesday , December 12 2017

उर्दू को खत्म करने की हो रही साजिश

रियासत में उर्दू को खत्म करने की साजिश हो रही है़ इसके खिलाफ जद्दोजहद की जरूरत है़ उर्दू असातिज़ा की तकर्रुरी में हुकूमत की ज़ेहनीयत ठीक नहीं है़। ये बातें विनोबा भावे यूनिवर्सिटी के उर्दू महकमा से सदर (रिटाइर्ड ) प्रो अबुजर उस्मा

रियासत में उर्दू को खत्म करने की साजिश हो रही है़ इसके खिलाफ जद्दोजहद की जरूरत है़ उर्दू असातिज़ा की तकर्रुरी में हुकूमत की ज़ेहनीयत ठीक नहीं है़। ये बातें विनोबा भावे यूनिवर्सिटी के उर्दू महकमा से सदर (रिटाइर्ड ) प्रो अबुजर उस्मानी ने कही। वे जुमेरात को मदरसा दारूल उलूम जाड़ी बानापीड़ी में मुनक्कीद झारखंड उर्दू असातिज़ा यूनियन के रियासती सतह कोन्फ्रेंस को खुसुसि मेहमान के तौर में खिताब कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि उर्दू मुसलमानों की ज़ुबान है़ इसी से हमारी पहचान है़ इसके बिना हमारा वजूद खतरे में है। उन्होंने प्राइमरी सतह पर मुसलिम बच्चों को उर्दू की तालीम दिये जाने का ऐलान किया। प्रो शाहिद हसन, प्रो वकील रिजवी, मौलाना साबिर, अयूब खलीफा, अब्दुल माजिद, मोहम्मद शाहिद व महमूद आलम ने उर्दू के तरक़्क़ी और तशहीर में ईमानदारी से कोशिश करने की दरख्वास्त की़ कोन्फ्रेंस की शुरुआत हाफीज मोहम्मद इमरान ने तिलावत-ए-कुरान से की़ सदारत शरीफ अहसन मजहरी ने की। एख्तेताम अमीन अहमद और शुक्रिया मेमो अब्दुल हकीम नदवी ने किया। मौके पर राकिम अहसन, जेयाउल होदा, गुलाम अहमद, शहजाद अनवर, तहारत हुसैन और महमूद आलम मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT