Thursday , April 26 2018

उर्दू हेरिटेज फेस्ट: कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क में क़व्वाली ने दर्शकों में बाँधा समां!

(Sonu Mehta/HT Photo)

नई दिल्ली: आज से कनॉट प्लेस के सेंट्रल पार्क में आयोजित उर्दू हेरिटेज फेस्ट में आने वाले आगंतुकों को सुखद अनुभव प्राप्त हुआ. वे अपने दोस्तों या परिवार के सदस्यों के साथ नियमित टहलने के लिए गए थे, लेकिन उन्होंने कभी ऐसा माहोल सेंट्रल पार्क में नहीं देखा था, और वहां हो रही क़व्वाली के प्रदर्शन से दर्शकों के पैर वहीँ थम गए।

कला विभाग, संस्कृति और भाषाओं के अधिकारियों ने कहा कि, गुरुवार से शुरू हुए छह दिवसीय उर्दू हेरिटेज फेस्टिवल में भारी संख्या में लोगों को आकर्षित किया गया है। विभाग ने संयुक्त रूप से उर्दू विरासत और संस्कृति का जश्न मनाने के लिए दिल्ली उर्दू अकादमी के साथ इस समारोह का आयोजन किया है।

त्योहार के उद्घाटन की रात में गज़ल के वादक तलत अजीज ने 1500 से ज्यादा लोगों के सामने प्रदर्शन किया। जश्न-ए-विरासत-ए-उर्दू नामक त्यौहार का दूसरा दिन, प्रतिभा समूह दिल्ली के बच्चों द्वारा प्रदर्शन के साथ शुरू हुआ, जिन्होंने दर्शकों को ‘किस्सा बचपन के खेलों का’ नामक एक नाटक की प्रस्तुती की।

नाटक में, बच्चों ने आधुनिक कंप्यूटर गेम, जैसे एंग्री बर्ड्स और कैंडी क्रश गेम्स के साथ अपना टाइम पास किया, वहीँ छोटे बच्चों ने टंग ट्विस्टर, लुल्लाबीज़, और राइम्ज़ जैसे गेम्स खेले।

एक दर्शक पूजा ने कहा, “हम नियमित रूप से सेंट्रल पार्क में आते हैं। लेकिन इस तरह के एक समारोह में आकर वास्तव में बहुत मज़ा आया।”

एमसीडी स्कूलों के इन बच्चों द्वारा 45 मिनट के प्रदर्शन के बाद, सरफराज चिश्ती और उनके उत्तर प्रदेश के कव्वाली गायकों के समूह ने मंच में समां बाँध दिया। समूह ने दर्शकों को ‘मौला अली’ और ‘जो मुझ में बोलता हैं में नहीं हैं’ जैसी अपनी प्रस्तुतियां दीं, साथ ही ‘दमा दम मस्त कलंदर’ जैसे प्रसिद्ध गीतों का भी प्रदर्शन किया।

सुमन शर्मा जो अपने दोस्तों के साथ आईं थीं, ने कहा, “आमतौर पर, जब हम ऐसे समारोह में शामिल होना चाहते हैं, तो टिकट मिलना आसान नहीं होता है। वहीँ यह समारोह मुफ्त में है।”

अधिकारियों ने कहा कि हालांकि, त्यौहार 2010 में दिल्ली में आयोजित किया गया था, बहुत से लोगों को इसके बारे में नहीं पता था क्योंकि यह आमतौर पर लाल किला लॉन में आयोजित किया जाता था। यह पहली बार है कि प्रदर्शन शहर के दिल में मंचन किया जा रहा है। आयोजकों ने कहा कि नया स्थल, जो मैट्रो द्वारा लोकप्रिय और आसानी से सुलभ है, त्योहार के नियमित संरक्षकों के लिए सुविधाजनक था और साथ ही त्योहार में दूसरों को आकर्षित किया। 50 से अधिक कलाकारों, जिनमें प्रसिद्ध उर्दू कवि, सूफी और कव्वाली गायक शामिल हैं, इस कार्यक्रम में प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और कला, संस्कृति और भाषाओं के मंत्री मनीष सिसोदिया ने उद्घाटन दिवस पर कहा, “उर्दू दिल्ली के सांस्कृतिक और साहित्यिक इतिहास का एक अभिन्न अंग है। यह दिल्ली के समग्र संस्कृति का एक महत्वपूर्ण मार्कर है। हम ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से सद्भाव और प्रेम का माहौल बनाने की उम्मीद करते हैं। हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उर्दू न केवल अच्छी तरह से संरक्षित हो, बल्कि यह भाषागत और सामाजिक रूप से प्रगति भी करती रहे।”

उन्होंने कहा, “उर्दू का यह उत्सव उर्दू के सभी प्रेमियों को एक साथ लाएगा, जो अलग-अलग रूपों में भाषा के उपयोग का आनंद ले सकते हैं।”

स्थल के स्थानांतरण और कार्यक्रम के पुनर्गठन के साथ, उर्दू अकादमी हर दिन 2,000 से अधिक अतिथि की उम्मीद कर रहा है। एक अधिकारी ने कहा, “पिछले साल तक इस कार्यक्रम में 1,000 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हुए थे।” फेस्टिवल 20 फरवरी को एक मुशायरे के साथ समाप्त होगा, जिसमें उर्दू कवियों जैसे राहत इंदोरी, महताब हैदर नकवी और निखत अमरोही शामिल होंगे।

TOPPOPULARRECENT