Thursday , December 14 2017

उल्फ़ा के दो कारकुनों की हथियारों और गोला बारूद के साथ ख़ुदसपुर्दगी

डिब्रूगढ़ 13 जुलाई (पी टी आई) उल्फ़ा के दो शोरिश पसंदों ने अपने हथियारों और गोला बारूद के साथ आसाम के ज़िला डबरो गढ़ में फ़ौज के आगे हथियार डाल दिए।

डिब्रूगढ़ 13 जुलाई (पी टी आई) उल्फ़ा के दो शोरिश पसंदों ने अपने हथियारों और गोला बारूद के साथ आसाम के ज़िला डबरो गढ़ में फ़ौज के आगे हथियार डाल दिए।

पप्पू बरवा उर्फ़ जा नोइक दीप असूम और चितरंजन दास उर्फ़ अवैक्या असूम ने 5 जे के लाईट रेजमंट ऑफीसरस, 2 इटली के साख़ता पिस्तौल, तीन मैग्ज़ीन्स, 10 कारतूसों और एक दस्ती बम के साथ हथियार डाल दिए।

पप्पू बरवा चाबवा मोडाई देहात और चितरंजन दास सूरसज् देहात ज़िला जोरहाट का मुतवत्तिन है। दोनों जुलाई 2010 में उल्फ़ा में शामिल हुए थे। छापा जंग की तर्बीयत हासिल की जो मयांमार में क़ायम उल्फ़ा के कैम्पों में दी गई थी।

वो उल्फ़ा के कैम्पों में कुछ वक़्त तक इंतेज़ामी फ़राइज़ अंजाम देते रहे। बादअज़ां उन्हें बालाई आसाम में रास्त कार्रवाई के लिए तायनात किया गया।

उल्फ़ा का नजातदिहंदा ग्रुप ने जिसकी क़ियादत कमांडर एन चीफ़ प्रवेश बरवा करते थे , अपने अरकान के हथियार डालने पर इमतिना आइद कर दिया था।

TOPPOPULARRECENT