Sunday , September 23 2018

एआईएमआईएम के आने से होगा मत विभाजन: राजनीतिक विशेषज्ञ

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि 2014 राज्य विधानसभा चुनाव में दो सीटें जीतने में कामयाबी हासिल करने से उत्साहित ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के आगामी बीएमसी चुनाव में मजबूत पैठ बनाने के प्रयासों से मुस्लिम मतों के विभाजन की संभावना बढ़ गयी है।

मुंबई कांग्रेस की अल्पसंख्यक सेल के पूर्व प्रमुख निजामुद्दीन राईन, जिन्होंने पार्टी में कथित रूप से पक्षपात के आरोप लगाने के बाद पार्टी छोड़ दी, उन्होंने कहा, “मुस्लिम नेता पहले से ही विभाजित और बहुत ही असुरक्षित हैं। इसलिए, उनसे समुदाय के लिए कुछ सकारात्मक करने के उम्मीद करना खुद के साथ धोखाधड़ी करने की तरह होगा।“

“एक मुस्लिम नेता या तो एक पार्षद, सांसद या विधायक हो सकता है लेकिन वह जनता का नेता नहीं बन सकता है,” उन्होंने कहा।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) में 227 पार्षदों में 21 मुस्लिम पार्षदों हैं, जिनमें 10 कांग्रेस, 5 समाजवादी पार्टी और 2 राकांपा से संबंधित हैं, इसके अलावा तीन स्वतंत्र हैं और एक अन्य पार्टी से सम्बंधित है।

ज्ञात रहे, सत्ताधारी दल भाजपा और शिवसेना में कोई मुस्लिम पार्षद हैं।
वरिष्ठ पत्रकार इम्तियाज मंजूर अहमद ने कहा कि अगले महीने होने वाला चुनाव मतदाताओं के लिए अस्पष्ट होने जा रहा है।

“मुस्लिम मतदाता पहले से ही कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच बंटे हुए थे और अब चीजों को और अधिक जटिल बनाने के लिए एक और पार्टी (हैदराबाद आधारित एआईएमआईएम) ने प्रवेश किया है।“

मतदाता और अधिक भ्रमित हो गए हैं और इस मतों के विभाजन से राज्य की राजनीति में मुस्लिमों के प्रतिनिधियों की कमी आएगी, “अहमद ने कहा।

“इससे समुदाय के लोगों की आवाज अनसुनी रह जाएगी और उनकी हालत और खराब हो जाएगी,” उन्होंने अफसोस जाहिर किया।

वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, शहर की आबादी में मुसलमान 20 प्रतिशत हैं।

प्रसिद्घ इस्लामी विद्वान जीनत शौकत अली ने भी कहा की बीएमसी चुनाव में नई पार्टी के प्रवेश से मतदाता और भ्रमित हो जायेंगे।
“एक और पार्टी का प्रवेश निश्चित रूप से मतदाताओं को भ्रमित करेगा, हालांकि, इसका इरादा मतदाताओं के सामने एक और विकल्प पेश करने का भी हो सकता है,” उन्होंने कहा।

TOPPOPULARRECENT