एएमयू छात्रों के खिलाफ अब तक कोई देशद्रोह का सबूत नहीं : यूपी पुलिस

एएमयू छात्रों के खिलाफ अब तक कोई देशद्रोह का सबूत नहीं : यूपी पुलिस

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश पुलिस ने गुरुवार को कहा कि उन्हें अभी तक अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के 14 छात्रों के खिलाफ कोई प्राथमिक सबूत नहीं मिला है। जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने गुरुवार को खुद यह बात कही. कुलहरि ने संवाददाताओं से कहा, “घटना के संबंध में अब तक एकत्रित किसी भी प्रमाण से छात्रों पर लगा देशद्रोह का आरोप साबित नहीं होता है.’ उन्होंने कहा कि पुलिस इस मामले में अभी और सुबूत इकट्ठा कर रही है. अगर देशद्रोह के आरोप के समर्थन में कोई प्रमाण नहीं मिलता है तो मुकदमे में इससे संबंधित धारा को हटा दिया जाएगा.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन (AMUTA) ने छात्रों के खिलाफ “देशद्रोह जैसे गंभीर आरोप” की निंदा की और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को इस बारे में लिखा। इसने कोविंद को संज्ञान लेने और “एक मजबूत संदेश भेजने के लिए कहा कि राजद्रोह के आरोपों को पूरी जांच के बाद ही सुना जाना चाहिए और कथित घटना के कुछ घंटों के भीतर सुनवाई पर नहीं”।

एएमयू स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने कोविंद को पत्र भी लिखा। कोविंद को लिखे पत्र में कहा गया है, “एएमयू पर दक्षिणपंथी ताकतों और मीडिया के कुछ वर्गों द्वारा झूठे आरोप लगाने के इरादे से बार-बार हमले हुए हैं।” “देशद्रोह सहित सात गंभीर अपराधों के आरोप में चौदह छात्रों पर झूठा मुकदमा दर्ज किया गया है। इसने AMU के छात्रों को ‘आहत’ और ‘नाराज’ कर दिया है। विश्वविद्यालय को ‘महत्व का संस्थान’ घोषित किया गया है और इसके छात्र हमेशा देश के लिए खड़े हुए हैं। देश के प्रति हमारी निष्ठा पर बार-बार सवाल उठाना न केवल छात्रों के लिए बल्कि संविधान का भी अपमान है। ”

मालूम हो कि भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष मुकेश लोधी की तहरीर पर एएमयू के 14 छात्रों के खिलाफ देशद्रोह और हत्या के प्रयास के आरोप में मंगलवार को मुकदमा दर्ज किया गया था. लोधी ने तहरीर में आरोप लगाया था कि वह एएमयू परिसर से सटे इलाके से गुजर रहे थे, तभी विश्वविद्यालय के छात्रों की अराजक भीड़ ने उन्हें घेर लिया और देश विरोधी नारेबाजी करते हुए उन पर हमला किया.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने इस बात की पुष्टि की है कि पुलिस एएमयू के ऐसे 55 छात्रों की सूची तैयार कर रही है जिनके खिलाफ जल्द ही गैर जमानती वारंट जारी किया जाएगा. उसके बाद वह एएमयू प्रशासन से उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहेंगे.

एएमयू के प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि लोधी ने पिछले हफ्ते विश्वविद्यालय के कुलपति को धमकी दी थी कि अगर अगले 15 दिन के अंदर उन्होंने एएमयू परिसर में एक मंदिर बनाने के लिये जगह नहीं दी तो वह खुद ही निर्माण कार्य शुरू कर देंगे.

इस बीच, छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने का विरोध कर रहे एएमयू छात्र संघ के नेताओं ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति की तहरीर पर इतनी गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया, जो खुद परिसर का माहौल खराब करना चाहता है. अफसोस की बात तो यह है कि इस मामले में उसके खिलाफ दर्ज शिकायत पर पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

Top Stories