Friday , December 15 2017

एके-47 बनाने पर था अफसोस

अज़ीम बंदूक़साज और ए के -47 राइफ़ल के मौज्जिद मीख़ाईल क्लाश्निकोव ने मौत से छः माह पहले मास्को और पूरे रूस के पीटर यार्ककर्ल को तौबा करते हुए ख़त में लिखा था कि ए के 47 लोगों की ज़िन्दगी छीनने में इस्तेमाल की गयी, इसलिए उसे इसके बनाने पर अफस

अज़ीम बंदूक़साज और ए के -47 राइफ़ल के मौज्जिद मीख़ाईल क्लाश्निकोव ने मौत से छः माह पहले मास्को और पूरे रूस के पीटर यार्ककर्ल को तौबा करते हुए ख़त में लिखा था कि ए के 47 लोगों की ज़िन्दगी छीनने में इस्तेमाल की गयी, इसलिए उसे इसके बनाने पर अफसोस है।

क्लाश्निकोव का इंतिक़ाल गुज़िश्ता माह में हुआ था। एक अख़बार के मुताबिक़, ए के -47 राइफ़ल के डिज़ाइनर ने रूसी ऑर्थोडॉक्स, चर्च से अफसोस का इज्हार किया और उस की तरफ़ से तैयार बंदूक़ से मौत के लिए अपनी ज़िम्मेदारी से मुताल्लिक़ तशवीश का इज़हार किया था। रिपोर्ट के मुताबिक़ उन्होंने अपने ख़त में लिखा कि मुझे नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त दर्द होता है . मेरे सामने बार – बार ये सवाल उठता है चूँकि मेरी बंदूक़ लोगों की ज़िंदगी छीन लेती है , इस लिए में , मीख़ाइल क्लाशनिकोव ( 93 ) एक किसान ख़ातून का बेटा , एक ईसाई और एक ऑर्थोडॉक्स, लोगों की मौत के लिए गुनाहगार हूँ, चाहे वो दुश्मन ही क्यों ना हो।

मीख़ाईल क्लाश्निकोव ने लिखा कि ये दुरुस्त है कि हमारे मुल्क में गिरजाघर और ख़ानक़ाह बन गए हैं, लेकिन बुराईयों का अब भी ख़ातिमा नहीं हुआ है। अच्छे और बुरे यकसाँ तौर पर वजूद में हैं। पड़ोसी आपस में जद्द-ओ-जहद करते रहे हैं। ये नतीजा मैंने अपनी ज़िंदगी के आख़िर में निकाला है।

मज़हबी रहनुमा के प्रेस सेक्रेटरी अलेक्जेंडर वोकोव ने कहा कि कर्ल ने उन के ख़त का जवाब भी दिया था। वकोव ने कहा कि वो ख़त चर्च पर हो रहे हमले के दिनों में लिखा गया था। पीटर यार्क ने क्लाश्निकोव के ख़त और इस मौज़ू पर तवज्जे देने के लिए शुक्रिया अदा किया और जवाब में लिखा कि ये उन की हुब्बुल-वतनी की एक मिसाल है। मज़हबी रहनुमा ने मज़ीद कहा कि जब भी इस बंदूक़ से मुल्क की हिफ़ाज़त होती है, तो चर्च डिज़ाइनर और बंदूक़ का इस्तिमाल करने वाले दोनों की हिमायत करेगा। अख़बार के मुताबिक़ क्लाश्निकोव ने ये ख़त सात अप्रैल को उसी हाथ से लिखा था जिससे बंदू़क बनाई थी।

TOPPOPULARRECENT