Friday , December 15 2017

एक्ज़िट पोल : चार सर्वे अज़ीम इत्तिहाद जबकि दो सर्वे में बीजेपी की हुकूमत का दावा

किसके सिर होगा ताज, लोग कश्मकश में

पटना : एसेम्बली इंतिख़ाब रिजल्ट के पहले बिहार में एक अजीब सी बेचैनी है। रियासत के किसी भी अहम पार्टी के लीडर सियासती तौर से पार्टी दफ्तर में मौजूद नहीं थे। जुमेरात को पांचवें और आखरी फेज के रायशुमारी खत्म होने के बाद से टीवी चैनलों पर छह एग्जिट पोल दिखाये गए। उनमें से चार सर्वे में अज़ीम इत्तिहाद की इक्तिदार में वापसी होती दिखाई गयी जबकि, दो सर्वे का दावा है कि बिहार में अहम मुखालिफत पार्टी बीजेपी की कियादत में एनडीए हुकूमत बनाने जा रही है।

मुखतलिफ़ चैनलों पर दिखाए गए सर्वे पर रियासत के हुकूमत में जनता दल यूनाइटेड के दफ्तर में पार्टी कारकुनान के दरमियान एक बहस छिड़ी थी। पार्टी कारकुनान मुन्ना चौधरी का कहना है कि सर्वे में सारे नौजवान वोटरों को एनडीए के साथ दिखाया जा रहा है। साथ ही यह भी दावा किया जा रहा है कि रायशुमारी जातिय बुनियाद पर हुआ है। दोनों की दलील मुतज़ाद हैं। वहीँ रविरंजन कुमार पहले सर्वे के तरीके पर सवाल उठाते हैं।

वो बहस को आगे बढाते हैं और कहते हैं कि अगर रायशुमारी के बढ़ते फीसद की वजह तरक़्क़ी का मुद्दा होता तो भी आगे नीतीश कुमार ही रहते और वजीरे आजम ने तो 17 महीने के मुद्दत में कुछ नहीं किया है। सभी पार्टियाँ जीत के हिमायत में अपनी- अपनी दलील पेश कर रही हैं।
वैसे तो एनडीए और अजीम इत्तिहाद के दरमियान कांटे की लड़ाई साफ़ झलकती है। लेकिन, इसके बावजूद रियासत के अहम मुखालिफत पार्टी भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर में कारकुनान के दरमियान जोश दिखता है। पार्टी से जुड़े ज्योतिष शशि भूषण राय ग्रहों की हालत को वजीरे आजम नरेन्द्र मोदी के मुताबिक बताते हैं। उनके मुताबिक गुरु और शनि का गोचर नीतीश कुमार के मुक़ाबले में वजीरे आजम बहुत मजबूत है। इसलिए एनडीए की हुकूमत बनेगी। वहीं मोहसिन रजा कहते हैं कि सेक्युलर तरीके से जश्न मनाया जायेगा। चैनल और एजेंसियां सर्वे के जरिये से अलग- अलग सियासी मुमकिना इमकान बता रहे हैं तो सभी अहम पार्टियों के कारकुनान अपने- अपने जीत के दावे कर रहे हैं। ऐसे में अब रियासत की अवाम की निगाहें इतवार के असल इंतिख़ाब की एलान पर लगी है।

 

TOPPOPULARRECENT