Tuesday , December 12 2017

‘एक पत्थरबाज़ की तरह कुछ भी नहीं है…चर्चा हर किसी के साथ होगी जो घाटी में शांति चाहते हैं’

जम्मू और कश्मीर में समस्याओं को हल करने के अपने वादे के बाद एनडीए सरकार ने पिछले महीने इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व निदेशक दिनेश्वर शर्मा को राज्य में अपने वार्ता शुरू करने और आगे बढ़ाने के प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया। इस पहल का उद्देश्य समाज के एक व्यापक पार अनुभाग की वैध आकांक्षाओं को समझना है।

एक अख़बार को दिए इंटरव्यू में जब दिनेश्वर शर्मा से पूछा गया कि उनके सामने आने वाली चुनौतियों का क्या असर है, तो उन्होंने इस सवाल का जवाब में कहा, “जम्मू और कश्मीर के लिए एक वार्ताकार के रूप में मेरा सबसे बड़ा काम और चुनौती पूरे क्षेत्र की सामान्य स्थिति लाने के लिए है। मैं यह नहीं कहूंगा कि मेरे साथ बातचीत करनेवाला बनने वाला सब कुछ तुरंत सामान्य हो जाएगा; यह सब निर्भर करता है।

राज्य में पत्थरबाज़ी के बारे में उन्होंने कहा, “एक पत्थरबाज़ की तरह कुछ भी नहीं है। युवा सही रास्ते से दूर चले गए हैं। अब, मेरा काम उनके साथ बात करने और उन्हें सही पक्ष में लाने के लिए होगा। मेरी वार्ता के दौरान युवाओं के लिए नौकरियों का निर्माण महत्वपूर्ण क्षेत्रों में से एक होगा। मैं अधिकारियों, राज्य सरकार और जो राज्य में चीजों में सुधार लाने में भूमिका निभा सकता है, उनसे बात करूंगा।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं केवल इतना कह सकता हूं कि जो काम मुझे दिया गया है वह बहुत चुनौतीपूर्ण है। मुझे आशा है कि मुझे जिस काम के लिए भेजा गया है मैं उसे पूरा कर सकूँ। मैं एक विशेष समय, दो, तीन या छह महीने का वादा नहीं करता जिसमें वार्ता काम करेगी। हम वहां जाकर सब कुछ देखेंगे।”

जब उनसे पूछा गया कि राज्य में सामान्यता क्यों बहाल नहीं हुई है तो उन्होंने कहा, “मैं अतीत पर टिप्पणी नहीं कर सकता। हर किसी की प्राथमिकता राज्य में सामान्य स्थिति को बहाल करना है। मेरा उद्देश्य राज्य में एक दीर्घकालिक सामान्य स्थिति खोजना होगा, जो प्रचलित है। एक जो जल्दी से दूर चकमा नहीं करता। मैं यह नहीं कह सकता कि राज्य में इस्लामी राज्य की मौजूदगी है।”

TOPPOPULARRECENT