Monday , April 23 2018

एक बार फिर भारत की यात्रा पर आ रहे हैं जॉर्डन किंग अब्दुल्ला

जोर्डन के किंग अब्दुल्ला भारत में अपने दूसरे दौरे पर 27 फरवरी को आ रहे हैं। अपनी इस यात्रा के दौरान वो 27 फरवरी से 1 मार्च के बीच भारत में रुकेंगे।

आपको बता दें कि ‘इस्लामी विरासत और समझ को बढ़ावा देने’ के विषय पर आयोजित व्याख्यान में विशेष संबोधन देने के लिए जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आएगे। इसके लिए वो इस हफ्ते ही भारत आएंगे।
कहा जा रहा है कि इस बार वे एक बड़े व्यापार प्रतिनिधिमंडल का भी नेतृत्व करेंगे। वही किंग अब्दुल्ला के साथ बिजनेस का एक बड़ा समूह भी आ रहा है।
किंग अब्दुल्ला भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ भी मुलाकात करेंगे। इराक, सऊदी अरब और चीन के बाद जॉर्डन ही चौथा सबसे बड़ा देश है जिसका भारत के साथ व्यापारिक भागीदारी हैं।

गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में जॉर्डन की यात्रा पर गए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने वहां के राजा को तीन दिनों के लिए फरवरी के अंत में भारत का राजकीय दौरा करने के लिए आमंत्रित किया था। 1950 में राजनयिक संबंध स्थापित किए जाने के बाद से भारत और जॉर्डन के बीच अच्छे संबंध रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि जॉर्डन की ओर से महामहिम शाह अब्दुल्ला और महारानी रानिया ने वर्ष 2006 में भारत का दौरा किया था। इस यात्रा के दौरान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के साथ सामाजिक न्याय और आधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत, संसद सदस्य, शैक्षिक समुदाय के लोग, आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल एवं मीडिया प्रतिनिधि शामिल थे।
यात्रा के दौरान राष्ट्रपति ने अम्मान में महात्मा गांधी के नाम पर एक सड़क का उद्घाटन किया तथा भारतीय समुदाय को संबोधित किया।
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जॉर्डन के शाह अब्दुल्ला के साथ बैठक की तथा आपसी सरोकार के द्विपक्षीय संबंधों, क्षेत्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों के सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श किया।

1.दोनों देशों के बीच समुद्री व्यापार एवं समुद्री परिवहन को बढ़ावा देने हेतु समुद्री परिवहन पर समझौता।
2. राजनयिकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों पर संरचना की जानकारी के आदान-प्रदान हेतु विदेश सेवा संस्थान (FSI) और जॉर्डन इंस्टीट्यूट ऑफ डेप्लोमैसी के मध्य समझौता।
3.आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में सहयोग के लिए संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार तथा सूचना मंत्रालय और संचार प्रौद्योगिकी के बीच समझौता ज्ञापन।
4. वर्ष 2015-17 में सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम हेतु समझौता।
5. मानकीकरण और अनुरूपता मूल्यांकन (Conformity Assessment) के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) और जॉर्डन मानक और मैट्रोलॉजी संगठन (JSMO) के बीच समझौता ज्ञापन।
6. जॉर्डन समाचार एजेंसी (पेट्रा) और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया के मध्य सहयोग समझौता।
TOPPOPULARRECENT