Friday , December 15 2017

एक माँ की फरियाद, भारत सरकार मेरे बच्चे को पाक से आज़ाद कराएं

मुंबई :पाकिस्तानी जेल में 2012 से कैद हामिद निहाल अंसारी की मां ने कहा कि उसे वापस लाने के लिए भारत सरकार को सबकुछ करना चाहिए। अंसारी पर हाल के महीनों में कम से कम तीन बार जेल में कैदियों ने हमला किया है। मुंबई से 31 वर्षीय इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट ग्रैजुएट की मां फौजिया अंसारी ने कहा कि हमें मीडिया और हमारे अधिवक्ता से सूचना मिली है कि इस तरह की घटना हामिद के साथ हुई है। अंसारी को जाली पाकिस्तानी पहचान पत्र रखने के लिए सैन्य अदालत ने तीन साल के कारावास की सजा सुनाई थी।
अंसारी के वकील के अनुसार भारतीय कैदी पर पेशावर जेल में हाल के महीनों में अन्य कैदियों ने कम से कम तीन बार हमला किया।

उन्होंने कहा कि हमारा भारत सरकार से अनुरोध है कि वह हामिद की मदद करे, जिसने कोई गंभीर अपराध नहीं किया है। उसकी गलती थी कि वह वहां जाली दस्तावेजों के साथ गया और उसने इसके लिए पहले ही काफी कुछ भुगत लिया है। उन्होंने कहा कि चार साल से हामिद पाकिस्तानी जेल में बंद है। उन्होंने कहा कि मैं नहीं जानता कि मेरे बेटे ने कौन सा अपराध किया है। लापता होने से पहले फेसबुक पर पाकिस्तान से उसके मित्रों के साथ हुई चैट के अनुसार वह एक लड़की की मदद के लिए सीमा पार करके पाकिस्तान चला गया। वह लड़की सामाजिक बुराई की शिकार थी। उन्होंने पाकिस्तान सरकार से अनुरोध किया कि वह उसपर रहम करे और उसे वापस भेज दे।

मुंबई निवासी हामिद निहाल अंसारी अफगानिस्तान से कथित तौर पर अवैध तरीके से 2012 में एक लड़की की मदद करने के लिए पाकिस्तान चला गया था। उस लड़की से उसकी ऑनलाइन दोस्ती हुई थी। उसपर पेशावर सेंट्रल कारागार में कैदियों ने हमला किया था। गुरवार को उसके वकील ने पेशावर उच्च न्यायालय की पीठ से कहा कि अंसारी को काल कोठरी में रखा गया है, जहां हत्या के लिए एक खूंखार अपराधी मौत की सजा दिए जाने का इंतजार कर रहा है। अंसारी पर विगत कुछ महीनों में तीन पर हमला करके उसे घायल कर दिया गया है और उसे अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया है। उसके वकील ने कहा कि यहां तक कि मुख्य वार्डन भी अकारण उसके साथ बर्बरता से पेश आता है और रोजाना उसे थप्पड़ मारता है।

उसे एक जाली पाकिस्तानी पहचान पत्र रखने के लिए सैन्य अदालत ने दोषी ठहराया था और तीन साल के कारावास की सजा सुनाई थी।मुंबई स्थित ऑब्जर्वर रिसर्च फाउन्डेशन के अध्यक्ष सुधींद्र कुलकर्णी ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय बताया। उन्होंने कहा कि हामिद अंसारी पर पाकिस्तानी जेल के भीतर यह हमला किया गया है। उन्होंने कहा कि हम उसकी शीघ्र रिहाई और भारत वापसी के लिए अभियान चला रहे हैं। हम समझते हैं कि उसने कोई अपराध नहीं किया है। उन्होंने कहा कि मैं पाकिस्तानी अधिकारियों से अनुरोध करता हूं कि उसकी सुरक्षा और शीघ्र उसकी भारत वापसी सुनिश्चित की जाए।

TOPPOPULARRECENT