Tuesday , December 19 2017

एक सड़क जहां लगती है 130 किमी लंबा जाम और उसे पार करने के लिए लगता है एक हफ्ता

130 किलोमीटर लंबा जाम और उसे पार करने के लिए एक हफ्ते का इंतजार. मंगोलिया के हजारों ट्रक ड्राइवर इसी तरह रोजी रोटी कमाते हैं. मंगोलिया में बहुत ज्यादा गरीबी है. सरकारी खर्च में भी कटौती की जा रही है. ऐसे में मंगोलिया के लोग बेहतर भविष्य का इंतजार ही कर सकते हैं. कोयले से लदे हजारों ट्रक मंगोलिया से बाहर निकलने का काम यही लोग कर रहे हैं. गोबी मरुस्थल से गुजरने वाली यह सड़क चीन की सीमा तक जाती है और यहीं ट्रक ड्राइवरों को अक्सर चीन की सीमा के पास एक हफ्ते इंतजार करना पड़ता है.

चूंकि चीन मंगोलिया से बहुत ही ज्यादा कोयला खरीद रहा है. चीन में पर्यावरण संबंधी नियम कड़े होने के बाद कोयला खनन महंगा हो गया है. इसीलिए चीनी कंपनियां मंगोलिया से कोयला खरीद रही हैं. उत्तर कोरिया पर लगे प्रतिबंधों के कारण भी कोयले को लेकर चीन मंगोलिया पर ज्यादा निर्भर हो गया है. कई टन कोयले से लदा ट्रक और थकान के बावजूद उसे चलाता ड्राइवर, इन ट्रक चालकों की ऐसी ही कहानी है. 200 किलोमीटर लंबे सफर में आए दिन हादसे भी होते रहते हैं.

130 किलोमीटर लंबे ट्रैफिक जाम के दौरान ड्राइवर अपने घर परिवार से बातचीत करते हैं. बहुत ज्यादा कालाबाजारी की वजह से मंगोलिया की पुलिस ने चेकिंग सख्त कर दी है. मंगोलिया के कस्टम नाके से हर दिन 700 ट्रक गुजरते हैं. यहां हर दिन हजारों लोग ट्रकों के साथ पहुंचते हैं. लंबे इंतजार के दौरान वे खाना पीना भी नाके के पास ही कर लेते हैं. ट्रक ड्राइवरों की वजह से गरीब देश मंगोलिया में कई लोगों को रोजगार मिला है. वे खाना पीना और जरूरत की आम चीजें बेचते हैं. रात में ठंड बढ़ते ही ड्राइवर ट्रक स्टार्ट कर देते हैं. इंजन की गर्मी और ट्रक के हीटिंग सिस्टम से उन्हें सहारा मिलता है. लेकिन इसकी वजह से अक्सर कुछ ट्रकों का डीजल भी खत्म हो जाता है. ऐसे में चलते फिरते डीजल पंप उनके पास पहुंचते हैं.

लंबे इंतजार और जोखिम भरे रास्ते पर गाड़ी चलाने के अलावा इन लोगों के पास और कोई दूसरा रास्ता नहीं है. मंगोलिया में बहुत ज्यादा गरीबी है. सरकारी खर्च में भी कटौती की जा रही है. ऐसे में मंगोलिया के लोग बेहतर भविष्य का इंतजार ही कर सकते हैं.

TOPPOPULARRECENT