Monday , September 24 2018

एग्जिट पोल ने बिहार की चुनाव में बीजेपी को किया था शर्मिंदा!

नई दिल्ली। गुजरात व हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के बाद आए एग्जिट पोल के अनुसार दोनों राज्यों में भाजपा की सरकार बनती दिख रही है लेकिन अगर कुछ राज्यों के चुनावों के एग्जिट पोल का विश्लेषण किया जाए तो यह बात साफ हो जाएगी कि हर बार ये सही साबित नहीं हुए हैं। इसी कड़ी में बात करते हैं बिहार की।

2015 में बिहार विधानसभा के चुनावों के बाद जो भी एग्जिट पोल आए उन सब के मुताबिक बिहार में एन.डी.ए. की सरकार बन रही थी। लेकिन जब चुनाव परिणाम आए तो सभी सर्वे झूठे साबित हुए। महागठबंधन ने 178 सीटों पर कब्जा जमाया जबकि एन.डी.ए. को मात्र 58 सीटें ही मिलीं।

दिल्ली में 2015 में हुए चुनावों में हालांकि सर्वे में आप की बढ़त दिखाई गई थी लेकिन जो सही तस्वीर थी उसे भी एग्जिट पोल दिखाने में असमर्थ रहे थे। सभी एग्जिट पोल में आप को औसतन 30 से 40 सीटें दी गई थीं लेकिन जब परिणाम आया तो आप ने विपक्ष का सूपड़ा साफ कर 70 में से 67 सीटें जीत कर सभी चुनावी सर्वे को झूठा साबित कर दिया था। विपक्षी कांग्रेस पार्टी का जहां सूपड़ा साफ हो गया था वहीं भाजपा ने जैसे-तैसे करके 3 सीटें जीत अपनी नाक बचाई थी।

एग्जिट पोल के नतीजे कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए बुरी खबर की आहट लेकर आए हैं। महीनों की जी तोड़ मेहनत और सधे जातीय समीकरणों के बावजूद कांग्रेस एग्जिट पोल के मुताबिक हिमाचल में सत्ता गंवा रही है जबकि गुजरात में भी उसकी सीटों में कोई खास इजाफा नहीं दिख रहा।

अध्यक्ष के रूप में उनके नाम की घोषणा के एक सप्ताह बाद ही गुजरात और हिमाचल के विधानसभा चुनाव परिणाम आ रहे हैं और अगर एग्जिट पोल के नतीजे सच साबित हुए तो राहुल पर कई सवाल उठेंगे।

TOPPOPULARRECENT