Tuesday , December 12 2017

एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने ज़ब्त ज़मीं का क़बज़ा हासिल करलिया

एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने जो आंध्र प्रदेश इंडस्ट्रियल इन्फ़िरा स्ट्रकचर कारपोरेशन और दुबई से काम करनेवाली कंपनी अम्मार के माबेन मुतनाज़ा ज़मीं मुआमलतों की तहकीकात कर रही है आज कहा कि इस ने इस केस में अब तक की पेशरफ़्त के तौर पर ज

एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने जो आंध्र प्रदेश इंडस्ट्रियल इन्फ़िरा स्ट्रकचर कारपोरेशन और दुबई से काम करनेवाली कंपनी अम्मार के माबेन मुतनाज़ा ज़मीं मुआमलतों की तहकीकात कर रही है आज कहा कि इस ने इस केस में अब तक की पेशरफ़्त के तौर पर ज़ब्त ज़मीं का क़बज़ा हासिल करलिया है।

ये ज़मीं जुमला 25,810 मुरब्बा गज़ है जो अम्मार हिलस टाउनशिप पराईवेट लिमिटेड से ताल्लुक़ रखती है। मनी लांडरिंग एक्ट के तहत एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने इस ज़मीं की ज़ब्ती सितंबर 2012 में अमल में लाई थी।

इस इक़दाम की बाद में पी एम एल ए अथॉरीटी की तरफ से तौसीक़ भी करदी गई। ई डी ने एक आर्डर में बताया कि इस ने जुमला तक़रीबन 19 प्लॉट्स का क़बज़ा हासिल करलिया है जो बोल्डर हिलस रूबरू आई एस बी कैंपस मनी कोंडा गुच्ची बाव‌ली इलाके में वाक़्ये हैं।

ये मुक़द्दमा मुबयना तौर पर ज़मिनत की गैरकानूनी मुंतक़ली और अम्मार हिलस् टाउनशिप में बैंगलौर और अपार्टमंटस की फ़रोख़त से मुताल्लिक़ है।

ये प्रॉजेक्ट ए पी आई आई सी और दुबई की कंपनी का मुशतर्का वेंचर है। एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने बताया कि तहकीकात के एक हिस्से के तौर पर इस जायदाद की मुंतक़ली पर रोक लगादी है और अब उसे ना तो फ़रोख़त किया जा सकता है ना हिबा किया जा सकता है ना रहन किया जा सकता है और ना किसी और तरीका से उसकी मुंतक़ली अमल में आसकती है।

सभी ताल्लुक़ रखने वालों को उसे किसी भी इक़दाम से बाज़ रखा गया है। पी एमएल ए के तहत एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट को ज़बत करदा यह क़ुरक़ करदा जायदाद के ताल्लुक़ से कोई भी फैसला करने का इख़तियार है अगर इसके ताल्लुक़ से कोई भी गैरकानूनी काम किया गया हो तो। एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने जिन प्लॉट्स का क़बज़ा हासिल किया है इन में सब से बड़ा प्लाट 2224 मुरब्बा गज़ का और कम से कम 1005 गज़ का प्लाट शामिल है। एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट ने तमाम प्लॉट्स के नंबरात के साथ ये एलान जारी किया है।

TOPPOPULARRECENT