Monday , December 11 2017

एम्पलॉयज़ जे ए सी तशकील तेलंगाना तक हड़ताल पर अटल

हैदराबाद । 18 अक्टूबर । ( सियासत न्यूज़ ) तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी ने इस बात काइआदा किया कि अलहदा रियासत तेलंगाना की तशकील का ऐलान करने तक अपनी हड़ताल जारी रखेगी और कहा कि तेलंगाना वुज़रा की जानिब से वज़ारती ओहदों से मुस्ताफ़ी होकर कोई वाज़िह तीक़न देने की सूरत में मौजूदा मौक़िफ़ पर नज़रसानी करने पर संजीदगी से ग़ौर किया जा सकता है । तेलंगाना एम्पलॉयज़ जे ए सी के क़ाइदीन ने आज सीनीयर कांग्रेस क़ाइद-ओ-रुकन पार्लीमान मिस्टर के केशव राॶ से उन की क़ियामगाह पर मुलाक़ात की और जद्द-ओ-जहद की हिक्मत-ए-अमली , हुकूमत की ज़्यादतियों , सरकारी मुलाज़मीन के ख़िलाफ़ दर्ज किए जाने वाले केसेस में इज़ाफ़ा-ओ-दीगर मौज़ूआत पर तबादला-ए-ख़्याल किया । बादअज़ां अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए मसरस स्वामी गौड़, सदर नशीन देवी प्रसाद , सी विट्ठल मुआविन सदर नशीन और वे सरीनवास गौड़ सैक्रेटरी जनरल तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी ने वाज़ेह तौर पर कहा कि तेलंगाना जद्द-ओ-जहद जारी रहेगी और सरकारी मुलाज़मीन की हड़ताल भी जारी रहेगी और तेलंगाना वुज़रा अपने वज़ारती ओहदों वग़ैरा से मुस्ताफ़ी होकर अलहदा रियासत तेलंगाना केलिए जारी जद्द-ओ-जहद में सरगर्म हिस्सा लेने की सूरत में सरकारी मुलाज़मीन जारी आम हड़ताल से दसतबरदारी इख़तियार करने पर संजीदगी से ग़ौर करेंगे । इन क़ाइदीन ने रियास्ती हुकूमत के तर्ज़-ए-अमल को हदफ़-ए-मलामत बनाते हुए कहा कि रियास्ती हुकूमत एक तरफ़ सरकारी मुलाज़मीन की हड़ताल ख़तन करवाने केलिए तेलंगाना मुलाज़मीन की मुशतर्का मजलिस-ए-अमल को बातचीत केलिए मदऊ कररही है तो दूसरी तरफ़ ग़ैर मजाज़-ओ-ग़लत तरीका-ए-कार को अपनाते हुए सरकारी मुलाज़मीन के ख़िलाफ़ संगीन दफ़आत के तहत केसेस दर्ज करवा रही है । इन क़ाइदीन ने रियास्ती हुकूमत के इस तरीका-ए-कार पर अपनी शदीद तशवीश का इज़हार किया और कहा कि रेल रोको प्रोग्राम तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी का दिया हुआ प्रोग्राम नहीं है । इस के बावजूद तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी के क़ाइदीन हिस्सा ना लेने पर भी पुलिस ने क़ाइदीन के ख़िलाफ़ फ़र्ज़ी-ओ-ग़ैर मजाज़ केसेस दर्ज किए जो बिलकुल्लिया तौर पर ग़ैर जमहूरी तरीका-ए-कार है और अलहदा रियासत तेलंगाना की तशकील के मुतालिबा पर जारी आम हड़ताल को कुचलने की एक मज़मूम कोशिश के सिवा-ए-और कुछ नहीं है ।

TOPPOPULARRECENT