एयर इंडिया ने नौकरी से किया इनकार, ट्रांसजेंडर ने दया हत्या के लिए राष्ट्रपति को लिखा!

एयर इंडिया ने नौकरी से किया इनकार, ट्रांसजेंडर ने दया हत्या के लिए राष्ट्रपति को लिखा!
Click for full image

नई दिल्ली: शानवी पोंनुसामी एयरलाइन के केबिन क्रू मेम्बर के रूप में नौकरी पाने के लिए आवश्यक सभी मानदंडों की जरूरतों को पूरा करतीं हैं, हालांकि, एयर इंडिया ने अपने साथ काम करने का मौका देने से इंकार कर दिया। कारण: शैनवी एक ट्रांसजेन्डर है।

तमिलनाडु के थुथुकुड़ी जिले के तिरुचेंदुर की रहने वाली शानवी ने अब खुद को मारने की अनुमति मांगने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखा है। उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “उन्होंने कहा कि हमारे पास ट्रांस-महिलाओं के लिए श्रेणी नहीं है. मेरे पास योग्यता और अनुभव है, क्या यह मेरे लिंग के बारे में है? अब अगर मैं जीवित हूं या मर रही हूं, यह राष्ट्रपति के हाथों में है।”

एयर इंडिया के इनकार से शानवी निराश हो गयी थीं इसलिए उन्होंने देश में कार्यरत अन्य निजी एयरलाइंस के साथ काम करने के लिए आवेदन नहीं किया था। “मैंने किसी अन्य एयरलाइन की कोशिश नहीं की क्योंकि अगर सरकारी एयरलाइन का ही कहना है कि आपके लिए कोई श्रेणी नहीं है, तो निजी एयरलाइंस से हम क्या उम्मीद कर सकते हैं।”

एयर इंडिया की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं आई है कि आखिर क्यों शानवी की उम्मीदवारी चार बार खारिज कर दी गई थी।

द न्यूज़ मिनट के अनुसार, एक मॉडल के रूप में काम करने वाले शानवी के पास इलेक्ट्रोनिक्स और कम्युनिकेशन में बीटेक की डिग्री है। उसने 2016 में पहली बार एयर इंडिया में एक केबिन क्रू पोस्ट के लिए आवेदन किया था। नागरिक उड्डयन मंत्रालय में काम करने वाले एक वरिष्ठ अधिकारी ने शानवी को नौकरी पाने में मदद करने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

उन्होंने 2017 में कथित भेदभाव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से संपर्क किया था। उसकी याचिका अभी भी सर्वोच्च न्यायालय में लंबित है।

Top Stories