Thursday , December 14 2017

एसेंबलियों के सेशन की तादाद में इज़ाफ़ा करें : प्रनब मुख‌र्जी

सदर जमहूरिया ने यहां वाके डॉन बास्को सैंटर फ़ार अनडीजीनस कल्चर्स का दौरा किया जो एशिया के उन चंद बड़े म्यूज़ीयम्स में से एक है जहां क़बाइली फ़न के शाहकारों की नुमाइश की गई है और साथ ही साथ शुमाल मशरिक़ी ख़ित्ते की अक्कासी भी की गई है।

सदर जमहूरिया ने यहां वाके डॉन बास्को सैंटर फ़ार अनडीजीनस कल्चर्स का दौरा किया जो एशिया के उन चंद बड़े म्यूज़ीयम्स में से एक है जहां क़बाइली फ़न के शाहकारों की नुमाइश की गई है और साथ ही साथ शुमाल मशरिक़ी ख़ित्ते की अक्कासी भी की गई है।

सदर जमहूरिया ने म्यूज़ीयम का दौरा करने के बाद उसे एक नाक़ाबिल फ़रामोश तजुर्बा से ताबीर किया। म्यूज़ीयम में रखी गई वज़ीटर्स बुक में अपने तास्सुरात तहरीर करते हुए उन्होंने कहा कि क़बाइली क़ौम के शाहकारों और शुमाल मशरिक़ी हिंदुस्तान की सक़ाफ़्त को जिस अंदाज़ में पेश किया गया है वो काबिल-ए-सिताइश है। ब्रूक साईड बंगला में राबिन्दर नाथ टैगोर आर्ट गैलरी का दौरा करने के बाद सदर जमहूरिया ने म्यूज़ीयम का दौरा किया था।

मज़कूरा म्यूज़ीयम सात मंज़िलों पर मुहीत है जिस में 17 गैलरियां हैं। प्रनब मुख‌र्जी ने कहा कि कसरत में वहदत का एक और नमूना का उन्हें नुमाइश देख कर एहसास हुआ। माज़ी में कई नामवर शख़्सियतों बिशमोल साबिक़ सदर जमहूरिया अब्दुल कलाम, लोक सभा स्पीकर मीरा कुमार और मुतअद्दिद मर्कज़ी वज़रा ने भी म्यूज़ीयम का दौरा किया है।

अपने मसरूफ़ तरीन प्रोग्राम के दौरान उन्होंने मेघालय लेजिस्लेटीव एसेंबली अरकान से भी ख़िताब किया। उन्हों ने कहा कि एसेंबली एक ऐसा मुक़ाम है जहां मआशी मुआमलात भी ज़ेर-ए-बहस आते हैं लेकिन उन्हें (मुख‌र्जी) ये महसूस होता है कि एसेंबलियों में मआशी मौज़ूआत पर ज़ाइद तवील बहस-ओ-मुबाहिसा नहीं किया जाता जबकि ज़रूरत इस बात की है एसेंबली अरकान को ज़ाइद वक़्त देना चाहिए और एसेंबली सेशन की तादाद में भी इज़ाफ़ा किया जाना चाहिए ये इस लिए भी ज़रूरी है कि इस तरह जमहूरियत को भी मुस्तहकम किया जा सकता है।

एम पीज और एम एल एज़ अव्वाम से वोटस हासिल करके यहां तक पहुंचते हैं। ऐवान की कार्रवाई में रुखना अंदाज़ी करना या दूसरी पार्टी के रुक्न को इज़हार-ए-ख़्याल से रोकना ग़ैर जमहूरी हरकत है जो अव्वाम के नुमाइंदे होने की वजह से अव्वाम से धोका है।

TOPPOPULARRECENT