Thursday , May 24 2018

ए के ख़ान इस मसअला पर तवज्जा क्यों नहीं देते ? तालिबात का सवाल

हैदराबाद 16 जनवरी ( नुमाइंदा खुसूसी) चंचल गोड़ा से हुसैनी आलम गर्ल्स जूनियर कॉलेज आने वाली तालिबा आईशा अमरीन की तरह दीगर तालिबात बस सर्विस के फ़ौरी आग़ाज़ का मुतालिबा कर रही हैं । इंटरमेडिएट सेकेंड इयर की तालिबा फ़ातिमा जबीन का कह

हैदराबाद 16 जनवरी ( नुमाइंदा खुसूसी) चंचल गोड़ा से हुसैनी आलम गर्ल्स जूनियर कॉलेज आने वाली तालिबा आईशा अमरीन की तरह दीगर तालिबात बस सर्विस के फ़ौरी आग़ाज़ का मुतालिबा कर रही हैं । इंटरमेडिएट सेकेंड इयर की तालिबा फ़ातिमा जबीन का कहना है कि हम तालिबात को लीडरों से कोई तवक़्क़ो नहीं उन्हें बस मसाइल सुनना आता है लेकिन मसाइल हल कैसे करें वो नहीं जानते हाँ वाअदे करने में भी हमारे लीडर बहुत माहिर हैं ।

इस तालिबा ने कहा कि ए के ख़ान आर टी सी के सरबराह हैं कम अज़ कम वो तो इस जानिब तवज्जा दे सकते हैं । अगर ए के ख़ान हुसैनी आलम गर्ल्स कॉलेज तक मीनी बस सर्विस शुरू करें तो इस से एक नहीं दो नहीं बल्कि ग्यारह सौ तालिबात का फ़ायदा होगा । अस्मा नामी तालिबा ने बताया कि बस सर्विस होती तो घर वालों को इत्मीनान होता कि हमारे बच्ची कॉलेज की गेट के करीब उतर रही है ।

बस सर्विस ना होने के बाइस छोटा भाई उसे कॉलेज छोड़ जाता है । लंगर हौज़ की समया तबस्सुम का कहना है कि हर रोज़ वालिद साहिब या भाई छोड़कर जाते हैं वापसी पर ख़िलवत तक पैदल जाना पड़ता है इस के बाद पुराना पुल और वहां उतर कर लंगर हौज़ तक दूसरी बस में सवार होना पड़ता है । एक मर्तबा एम एल ए की कोशिशों से बस सर्विस शुरू भी हुई और 15 दिन में बंद कर दी गई ।

TOPPOPULARRECENT