Thursday , December 14 2017

ऑनलाइन कोर्स वक़्त का तक़ाज़ा -संजय मिश्रा

ऑनलाइन कोर्सेस (MOOCS) आज वक़्त की अहम ज़रूरत है। इन कोर्सेस से हर कोई इंटरनेट के इस्तेमाल के ज़रिये इस्तिफ़ादा करसकता है। प्रोफेसर जी राम रेड्डी मेमोरियल ट्रस्ट के ज़ेरे एहतेमाम डाक्टर बी आर अंबेडकर ओपन यूनीवर्सिटी कैम्पस में मुनाक़िद

ऑनलाइन कोर्सेस (MOOCS) आज वक़्त की अहम ज़रूरत है। इन कोर्सेस से हर कोई इंटरनेट के इस्तेमाल के ज़रिये इस्तिफ़ादा करसकता है। प्रोफेसर जी राम रेड्डी मेमोरियल ट्रस्ट के ज़ेरे एहतेमाम डाक्टर बी आर अंबेडकर ओपन यूनीवर्सिटी कैम्पस में मुनाक़िदा एक इजलास में लेकचर देते हुए डाक्टर संजय मिश्रा ने ये बात कही।

डा. मिश्रा ने टैक्नालोजी और लर्निंग के मौजूदा मंज़र का जायज़ा लिया। और इस से मुताल्लिक़ उमूर पर तफ़सीली रोशनी डाली। इस मौक़े पर डाक्टर संजया मिश्रा को फासलाती तालीम के शोबे में उनकी नुमायां कारकर्दगी पर प्रोफेसर जी राम रेड्डी सोश्यल साइंटिस्ट एवार्ड भी अता किया गया।

डा. पी प्रकाश , वाइस चांसलर डाक्टर बी आर अंबेडकर ओपन यूनीवर्सिटी ने डाक्टर मिश्रा को मुबारकबाद दी और यूनीवर्सिटी की जानिब से उन्हें तहनियत पेश की। प्रोफेसर सी एच. हनुमंत राव‌ ने सदारत की। सेक्रेटरी ट्रस्ट ने शुक्रिया अदा किया।

TOPPOPULARRECENT