Wednesday , December 13 2017

ओडियन थियटर धमाका मुक़द्दमे का मुल्ज़िम बरी

नामपली क्रीमिनल कोर्ट के फ़रस्ट ऐडीशनल मेट्रो पोलीटीन सेशन जज ने ओडियन थियटर धमाका केस के मुल्ज़िम मुहम्मद ज़िया उल-हक़ को बरी कर दिया।

नामपली क्रीमिनल कोर्ट के फ़रस्ट ऐडीशनल मेट्रो पोलीटीन सेशन जज ने ओडियन थियटर धमाका केस के मुल्ज़िम मुहम्मद ज़िया उल-हक़ को बरी कर दिया।

7 मई 2006 में आर टी सी क्रास रोड पर वाक़्ये ओडियन थियटर में ग्रेनेड बम धमाका हुआ था जिस में दो अफ़राद राधीका और रमेश साकन चिक्कड़पली ज़ख़मी होगए थे। इस केस को उस वक़्त के कमिशनर पुलिस हैदराबाद ए के मोहंती ने स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एस आई टी) के हवाले कर दिया था और तवील अर्सा तक इस केस में कोई सुराग़ ना मिल सका।

4 मई साल 2010 को भवानीनगर पुलिस ने टैक्सी ड्राईवर मुहम्मद ज़िया उल-हक़ उर्फ़ अब्बू अबदुल्लाह उर्फ़ जानी को ईदीबाज़ार इलाके से गिरफ़्तार और इस के क़बजे से चीन में तैयार शूदा दो हैंड ग्रेनेडस और 7.4 एम एम पिस्तौल और छः कारतूस बरामद करने का दावा किया था। ज़िया उल-हक़ की गिरफ़्तारी के बाद इस केस को नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (एन आई ए ) के हवाले कर दिया गया था। जबकि ओडियन थियटर बम धमाका केस की तहक़ीक़ात एस आई टी ने की। तहक़ीक़ात के दौरान एन आई ए ने दावे किया था कि मुहम्मद ज़िया उल-हक़ ने ही जिस का ताल्लुक़ पाकिस्तानी तंज़ीम लश्कर-ए-तुयेबा से है , ओडियन थियटर में हैंड ग्रेनेड के ज़रीये धमाका किया था जिस के नतीजे में दो अफ़राद ज़ख़मी होगए थे जबकि एस आई टी ने मुल्ज़िम के ख़िलाफ़ चार्ज शीट दाख़िल की थी और इस्तिग़ासा ने केस की समाअत के दौरान 23 गवाहों को अदालत में पेश किया था और इन गवाहों के बयानात कलमबंद किए गए।

वकील दिफ़ा सीनीयर क्रीमिनल एडवोकेट मुहम्मद मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ान ने अपनी बेहस में ये दलायल पेश किए कि उनके मुवक्किल को थियटर धमाका में ग़लत माख़ूज़ किया गया है और इस केस से इस का कोई ताल्लुक़ नहीं। सेशन जज ने इस्तिग़ासा और वकील दिफ़ा की बेहस के बाद मुहम्मद ज़िया उल-हक़ को बरी कर दिया और एस आई टी मुल्ज़िम के ख़िलाफ़ जुर्म साबित करने में नाकाम रही। वाज़िह रहे के साबिक़ में एन आई ए के केस में नामपली क्रीमिनल कोर्ट के सेशन जज ने ज़िया उल-हक़ को 7 साल की सज़ा-ए-सुनाई थी और एक हज़ार रुपये जुर्माना आइद किया था चुनांचे इस मुक़द्दमा में बरी किए जाने के बावजूद उन्हें जेल में ही रखा जाएगा।

TOPPOPULARRECENT