Wednesday , December 13 2017

ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर के कांग्रेस में शामिल होने से गुजरात चुनावों में पार्टी को मिलेगा बढ़ावा

भाजपा विरोधी विधायक पर नजर रखने के साथ कांग्रेस ने शनिवार को गुजरात में विपक्षी दलों के समक्ष पहुंच कर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के नेता अल्पेश ठाकौर ने कहा कि वह पार्टी में शामिल होंगे।

पार्टी को विश्वास और पाददर समुदाय के शिक्षा और नौकरियों में आरक्षण के हलके नेतृत्व वाले 24 वर्षीय नेता, हार्दिक पटेल का समर्थन हासिल करने का भी आश्वासन है।

कांग्रेस दलित अधिकार प्रचारक और वकील जिग्नेश मेवानी को भी प्राप्त करने की कोशिश कर रही है।

दोनों नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य में भाजपा सरकार के मुखर आलोचक हैं, जहां विधानसभा चुनाव इस सर्दी में होंगे।

इस कदम का उद्देश्य उन राज्यों में कांग्रेस की संभावनाओं को बढ़ावा देना है, जहां पार्टी 22 वर्षों से सत्ता से बाहर है।

36 वर्षीय मेवानी, पटेल जैसे युवा नेता हैं और दलितों के लिए एक आंदोलन की अगुवाई कर रहे हैं, जो राज्य की आबादी का लगभग 8% हिस्सा है।

39 वर्षीय ठाकुर, जो ओबीसी, एसटी, एससी एकता मंच और गुजरात क्षत्रिय-ठाकुर सेना के संस्थापक हैं, ने नई दिल्ली में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी को मिलने के बाद अपने इरादों की घोषणा की।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “राहुल गांधी 23 अक्टूबर को हमारी रैली में हिस्सा लेंगे और मैं कांग्रेस में शामिल हो जाएगा।”

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल ने हाल ही में गुजरात की राज्यसभा सीट के लिए कड़ी मेहनत की लड़ाई जीती, राज्य के प्रभारी महासचिव अशोक गहलोत, कांग्रेस के राज्य इकाई प्रमुख भरतसिंह सोलंकी मीटिंग में शामिल थे।

ठाकुर ने आम आदमी पार्टी (आप) को कोई समर्थन नहीं दिया है, जो गुजरात चुनावों के लिए भी बड़ी योजना बना रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों के पास सिर्फ दो विकल्प हैं – भाजपा या कांग्रेस।

उनके संगठन ने 182 विधानसभा क्षेत्रों में बूथ प्रबंधन अभ्यास किए हैं।

दक्षिण गुजरात के सौराष्ट और दहेज में घोघ के बीच नौका सेवा का उद्घाटन करने के लिए प्रधान मंत्री मोदी की भरूच की यात्रा के एक दिन पहले यह घटनाएं सामने आईं।

चुनाव आयोग ने चुनाव कार्यक्रम की घोषणा नहीं की है लेकिन अधिकारियों ने संकेत दिया है कि गुजरात में वोटों की गिनती 18 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश के साथ होगी, दूसरे राज्य में चुनाव होने जा रहे हैं।

कांग्रेस ने भाजपा के दबाव में चुनाव की तारीखों की घोषणा करने में देरी के चुनाव आयोग पर आरोप लगाया है। इसके लिए भाजपा ने आरोप लगाया है कि विपक्षी पार्टी आयोग के फैसले पर सवाल उठा रही है।

TOPPOPULARRECENT