ओवरसीज़ स्कालरशिप शराइत में तरमीम के लिए हुकूमत की मंज़ूरी दरकार

ओवरसीज़ स्कालरशिप शराइत में तरमीम के लिए हुकूमत की मंज़ूरी दरकार
Click for full image

हैदराबाद 04 सितंबर: महिकमा अक़लियती बहबूद ने वाज़िह किया हैके अक़लियती तलबा के लिए ओवरसीज़ स्कालरशिप स्कीम की शराइत में तरमीम के लिए हुकूमत की मंज़ूरी ज़रूरी है।

महिकमा के एक आला ओहदेदार ने कहा कि मौजूदा शराइत का इतलाक़ अक़लियतों के अलावा एससी, एसटी तबक़ात के लिए यकसाँ तौर पर है। ओवरसीज़ स्कालरशिप स्कीम के सिलसिले में हुकूमत ने तीनों तबक़ात के लिए यकसाँ तौर पर क़वाइद मुदव्वन किए हैं।

अक़लियती तलबा की तरफ से इस स्कीम से इस्तेफ़ादा के लिए जुमला 513 दरख़ास्तें दाख़िल की गई थीं जिनमें 280 दरख़ास्तों को अहल क़रार दिया गया ताहम बाद में मुख़्तलिफ़ शराइत की तकमील का जायज़ा लेने के बाद 86 दरख़ास्तों को मुस्तर्द कर दिया गया। ओवरसीज़ स्कालरशिप स्कीम की दरख़ास्तों को क़तईयत देने के लिए जो कमेटी तशकील दी गई है तवक़्क़ो हैके इस की मीटिंग अंदरून एक हफ़्ता मुनाक़िद होगी जिसमें तमाम शराइत की जांच के साथ अहल उम्मीदवारों की फ़हरिस्त को क़तईयत दी जाएगी।

ज़राए ने बताया कि दरख़ास्तों की मंज़ूरी के लिए जी आर ई और जी मेट की जो शर्त रखी गई है वो इन ममालिक के लिए भी बरक़रार है जहां की यूनीवर्सिटीज़ में दाख़िले के लिए इस इमतेहान में कामयाबी लाज़िमी नहीं। ज़राए ने बताया कि इन इमतेहानात के लिए हुकूमत की तरफ से जी ओ में तरमीम की ज़रूरत है।

Top Stories