Tuesday , December 12 2017

ओ बी सी कोटा के लिए हद आमदनी में इज़ाफ़ा

नई दिल्ली, 19 मार्च: ( पी टी आई) सरकारी मुलाज़मतों और तालीमी इदारों में तहफ़्फुज़ात के मुस्तहिक़ दीगर पसमांदा तबक़ात ( ओ बी सी ) से ताल्लुक़ रखने वाले अफ़राद के लिए सालाना आमदनी की हद को मौजूदा 4.5लाख रुपये से बढ़ाकर छः लाख रुपय सालाना मुक़र्रर

नई दिल्ली, 19 मार्च: ( पी टी आई) सरकारी मुलाज़मतों और तालीमी इदारों में तहफ़्फुज़ात के मुस्तहिक़ दीगर पसमांदा तबक़ात ( ओ बी सी ) से ताल्लुक़ रखने वाले अफ़राद के लिए सालाना आमदनी की हद को मौजूदा 4.5लाख रुपये से बढ़ाकर छः लाख रुपय सालाना मुक़र्रर करने की एक तजवीज़ से वुज़रा के ग्रुप ने आज इत्तिफ़ाक़ कर लिया ।

सरकारी ओहदेदारों ने कहा है कि अब इस मसला को बग़रज़ मंज़ूरी मर्कज़ी काबीना से रुजू कर दिया जाएगा । वज़ीर फायनेंस पी चिदम़्बरम की क़ियादत में वुज़रा के ग्रुप ने ओ बी सी से ताल्लुक़ रखने वालों की सालाना हद आमदनी को छः लाख रुपये मुक़र्रर करने मर्कज़ी वज़ारत इंसाफ़ की तजवीज़ से इत्तिफ़ाक़ कर लिया है ।

वज़ारत इंसाफ़ ने क़ब्लअज़ीं ओ बी सी के ख़ुशहाल तबक़ा के लिए शहरी इलाक़ा में सालाना 12 लाख रुपये हद आमदनी और देही इलाक़ों में 9 लाख रुपये सालाना आमदनी की हद मुक़र्रर करने की तजवीज़ पेश की थी जिस को हुकूमत ने मुस्तर्द कर दिया था ।

क़ब्लअज़ीं ख़ुशहाल तबक़ा के लिए सालाना हद आमदनी 4.5लाख रुपये सालाना मुक़र्रर थी जब कि ग़रीब तबक़े के लिए जब कि 2008 में सालाना हद आमदनी 2.5लाख थी जो 4.5लाख रुपय कर दी गई।

TOPPOPULARRECENT