Monday , June 18 2018

औलियाए तलबा अपने होनहारों की तालीम के लिए फ़िक्रमंद

हैदराबाद 10 जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) आज औलियाए तलबा अपने बच्चों के मुस्तक़बिल के लिए और हुसूले तालीम के लिए दाख़िले की जुस्तजू में लगे हुए हैं वो फ़िक्रमंद है कि उन की होनहार औलाद अच्छे कॉलेज और कोर्स में दाख़िले हासिल करें । और उन का

हैदराबाद 10 जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) आज औलियाए तलबा अपने बच्चों के मुस्तक़बिल के लिए और हुसूले तालीम के लिए दाख़िले की जुस्तजू में लगे हुए हैं वो फ़िक्रमंद है कि उन की होनहार औलाद अच्छे कॉलेज और कोर्स में दाख़िले हासिल करें । और उन का मुस्तक़बिल दरख़शां हो।

सरकारी कॉलेजेस में अच्छे रैंक के ज़रीए दाख़िले हासिल करने से ना सिर्फ़ फ़्री सीट मिलेगी बल्कि डोनेशन का ख़ात्मा होगा । इन ख़्यालात का इज़हार जनाब ज़ाहिद अली ख़ांन एडीटर सियासत ने यहां एस ए इम्पेरियल गार्डन फंक्शन हॉल में इदारा सियासत के ज़ेरे एहतेमाम मुनाक़िदा कैरियर कौंसलिंग सेशन को मुख़ातब करते हुए किया।

उन्हों ने तलबा पर ज़ोर दिया कि वो अच्छे निशानात हासिल करें । आज मेरिट का दौर है और तलबा की अक्सरियत अच्छे निशानात हासिल कर रही है । एक तालिबा आईशा फ़ातिमा की मिसाल पेश करते हुए कहा आईशा ने इंटर मेडिएट में रियासत भर में पहला मुक़ाम पाकर BITS पिलानी में फ़्री दाख़िला हासिल किया और वो आज चेन्नाई की एक कंपनी में लाखों रुपये पर बरसर ख़िदमत है।

आज स्टेट रैंक लाने पर बेशुमार सहूलयात मुहय्या हैं । उन्हों ने इदारा सियासत की मुख़्तलिफ़ सरगर्मियों के हवाला से कहा कि सियासत कौंसलिंग के ज़रीए हर साल बेशुमार तलबा कई प्रोफेशनल कोर्सेज़ और कॉलेजेस में मुफ़्त दाख़िले हासिल कर रहे हैं कौंसलिंग के लिए सिर्फ़ स्टेट रैंक देखा जाता है और कोई इत्तिला नहीं दी जाती सिर्फ़ शेड्यूल में उम्मीदवार अपना रैंक , तारीख ,मुक़ाम देख कर शिरकत कर के कौंसलिंग के ज़रीए दाख़िला हासिल करें।

उन्हों ने एमसेट , आईसेट , एडसेट के उम्मीदवारों को उन के रैंक के मुताबिक़ दाख़िले की मालूमात फ़राहम की । जनाब अब्दुल सत्तार मुजाहिद ने इदारा सियासत के तहत जारी मुख़्तलिफ़ सरगर्मियों के हवाला से कहा कि ये भी इस सिलसिले की एक कड़ी है।

सियासत एक तालीमी तहरीक है। जिस से बेशुमार लोग मुस्तफ़ीद हो रहे हैं । इस प्रोग्राम में ज़ाइद अज़ 2 हज़ार तलबा तालिबात ने शिरकत की । आख़िर में सवाल जवाब का सेशन रहा । डॉक्टर हसीब उल्लाह , इक़बाल मही उद्दीन भी प्रोफेसर्स के साथ शरीक थे । एम ए हमीद ने शुक्रिया अदा किया।

TOPPOPULARRECENT